Uncategorized

कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की बैठक में प्रो. सिंह ने निभाई भागीदारी

बीकानेर, 15 अक्टूबर। स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो आर. पी. सिंह ने मंगलवार को दुर्गापुरा, जयपुर में राज्य के कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों एवं उनके प्रतिनिधियों की बैठक में भाग लिया।
प्रो. सिंह ने बताया कि बैठक में प्रदेश के समस्त कृषि विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों के प्रवेश एवं परीक्षा की तिथि, शुल्क, पाठ्यक्रम, एकेडमिक कलैण्डर सहित अन्य गतिविधियों निर्धारण में एकरूपता लाने पर विचार विमर्श किया गया। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश के पांचों विश्वविद्यालयों में प्रक्रिया तथा तिथियां अलग-अलग होने से विद्यार्थियों को परेशानी होती है। इसके मद्देनजर सभी कृषि विश्वविद्यालयों द्वारा इस दिशा में चर्चा की गई। कुलपति ने विश्वविद्यालय की विभिन्न गतिविधियों के बारे में जानकारी भी दी।

बैठक में कृषि विश्वविद्यालय कोटा के कुलपति प्रो. डी. सी. जोशी, कृषि विश्वविद्यालय जोधपुर के कुलपति प्रो. बी आर चौधरी, एसकेआरएयू के कुलसचिव प्रो. राजेश शर्मा सहित जोबनेर एवं उदयपुर कृषि विश्वविद्यालयों के अधिकारी मौजूद रहे।

नाबार्ड के सी.जी.एम. को सौंपा एग्री ट्यूरिज्म प्लान
कुलपति प्रो. सिंह ने जयपुर में मंगलवार को नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक सुरेश चंद से मुलाकात की। उन्होंने नाबार्ड सी.जी.एम. को बीकानेर में एग्री टूरिज्म की संभावनाओं से संबंधित प्रोजेक्ट प्लान रिपोर्ट प्रस्तुत की। उल्लेखनीय है कि गत दिनों नाबार्ड सीजीएम और कुलपति ने एग्री टूरिज्म एवं एग्री बिजनेस इंक्यूबेशन संेटर की स्थापना के संबंध में चर्चा की थी। कुलपति ने विश्वविद्यालय में 14 से 16 नवंबर तक इंडियन सोसायटी आॅफ एक्सटेंशन एज्यूकेशन द्वारा आयोजित होने वाले राष्ट्रीय सेमीनार के लिए बतौर की-नोट स्पीकर आने के लिए आमंत्रित किया।

छह दिवसीय प्रशिक्षण सम्पन्न
बीकानेर, 15 अक्टूबर। कृषि व्यवसाय प्रबंधन संस्थान द्वारा राष्ट्रीय कृषि उच्च शिक्षा परियोजना के तहत आयोजित छह दिवसीय प्रशिक्षण मंगलवार को सम्पन्न हुआ। प्रशिक्षण के दौरान विद्यार्थियों को साक्षात्कार एवं कॅरियर संबंधित जानकारियों सहित समूह परिचर्या, लेखन एवं वाचन संबंधित दक्षता से जुड़ी जानकारी दी गई। संस्थान निदेशक प्रो. एन के शर्मा ने कहा कि ऐसी कार्यशालाएं कॅरियर निर्माण की दृष्टि से विद्यार्थियों के लिए लाभदायक सिद्ध होंगी। प्रशिक्षण से जुड़े विवके व्यास ने प्रशिक्षण के विभिन्न सत्रों की जानकारी दी। इस दौरान डाॅ. अमिता शर्मा एवं डाॅ. सत्यवीर मीणा भी मौजूद रहे।
—–