Uncategorized

जांबाज थानेदार विष्णुदत्त के नाम से कांपती थी अपराधियों की रूंह

-मुकेश पूनिया-
बीकानेर। जांबाज थानेदार विष्णुदत्त विश्रोई के खुदकुशी कर लिये जाने की दुखद खबर से राजस्थान पुलिस में शोक की लहर छा गई। पुलिस के आला अधिकारी भी जांबाज और मजबूत आत्मबल वाले थानेदार द्वारा यूं खुदकुशी कर लिये जाने से स्तब्ध है।

डीजीपी भूपेन्द्र सिंह ने अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि एक होनहार और कृतव्यनिष्ठ पुलिस निरीक्षक द्वारा खुदकुशी कर लिये जाने से राजस्थान पुलिस की आत्मा आहत हुई है और यह घटना अति दुखद है,इसकी सीबीआई जांच कराई जायेगी। पुलिस हल्कों में थानेदार विष्णुदत्त का नाम प्रदेश के टॉपटेन हार्ड एण्ड होनेस्ट पुलिस निरीक्षकों की सूचि में शामिल था। अपने कार्यकाल के दौरान बीकानेर रैंज पुलिस के दर्जनभर से ज्यादा थानों में प्रभारी रह चुके विष्णुदत्त विश्रोई जहां भी तैनात रहे वहां अपराधियों में भय और आमजन में पुलिस का विश्वास मजबूत किया पुलिस महकमे में सामाजिक नवाचारों को लेकर उनकी कार्यप्रणाली खासी चर्चाओं में रहती थी। उनकी लोकप्रियता का इसी से पता चलता है कि सोशल मीडिया पर उनके हजारों की संख्या में फॉलोवर थे। इस पर वे पुलिस व पब्लिक के बीच न्याय स्तंभ का काम चलाते थे। महकमे में विष्णुदत्त की एक ईमानदार छवि थी। वे करीब 13 थानों की कायापलट कर चुके थे। वे मूल रुप से रायसिंहनगर के गांव लूणेवाला के काश्तकार परिवार केे होनहार थे,साल 1997 में पुलिस विभाग में सब इंस्पेक्टर भर्ती हुए थे। उनके चाचा सुभाष विश्नोई भी एडिशनल एसपी रहे है। फिलहाल वे यहां बीकानेर की खतूरियां कॉलोनी में अपने परिवार के साथ नीजि मकान में रहे थे। विष्णुदत्त विश्रोई जिस इलाके में थाना प्रभारी रहे वहां आमजन में विश्वास और अपराधियों में खौफ पैदा किया। बताते है कि इलाके के अपराधियों की विष्णुदत्त के नाम से रूह कांपती थी। कई संगीन वारदातों का खुलासा कर अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचा चुके विष्णुदत्त विश्रोई जिस थाने में भी तैनात रहे वहां नवाचार के जरिये जनमानस के बीच अपनी अलग पहचान बनाई। मादक पदार्थ तस्करों के खिलाफ मुहिम के तहत उन्होने बड़ी कार्यवाहिया कर कई तस्करों को सलाखों के पीछे पहुंचाया।

-: गंदी राजनीति में फंसाने की साजिश से आहत
जानकारी मिली है कि पुलिस निरीक्षक विष्णुदत्त बीती रात ही अपने एक परिचित को चेटिंग में लिखा- मुझे गंदी राजनीति में फंसाने की साजिश चल रही है,अगली पंक्ति में यह भी लिखा कि अफसर कमजोर है,बिना वजह दबाव बनाया जा रहा है। ऐसे में वह अब स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन करने वाले है। यहां के ऑफिसर बहुत कमजोर है। इस व्हाट्सएप चेटिंग के स्क्रीन शॉट भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। फिलहाल सीआई विष्णुदत्त की खुदकुशी प्रकरण में सादुलपुर एमएलए कृष्णा पूनिया और चुरू पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी मुर्दाबाद के नारों की गूंज से सियासी माहौल भी उबाल पर है।–

उधर बीकानेर बिश्नोई समाज ने भरी हुंकार —– —- राजस्थान पुलिस के ईमानदार और कृतव्यनिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजगढ थाना प्रभारी विष्णुदत्त विश्रोई के खुदकुशी प्रकरण की सीबीआई जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की मांग को लेकर बीकानेर में विश्रोई समाज के प्रबुद्धजनों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ऑनलाईन ज्ञापन भेजा है। समाज के मांगीलाल विश्रोई जेंगला ने यह जानकारी देते हुए बताया कि विष्णुदत्त विश्रोई मजबूत आत्मबल वाले होनहार पुलिस निरीक्षक थे,राजनैतिक दबाव के चलते संदिग्ध हालातों में उनके खुदकुशी किये जाने से समाज की आत्म आहत हुई है। हमारी राज्य सरकार से मांग है कि इस प्रकरण की केन्द्रीय जांच ब्यूरों से जांच कराई जाकर दोषी लोगों को सलाखों के पीछे पहुंचाया जाये तथा दिवंगत विष्णुदत्त विश्रोई के परिजनों को आर्थिक मुआवजा दिया जाये। मांगीलाल विश्रोई ने बताया कि इस प्रकरण को लेकर शनिवार को हुई समाज के प्रबुद्धजनों की मिटिंग में दिंवगत सीआई विष्णुदत्त विश्रोई के प्रति शोक संवेदना व्यक्त कर सीबीआई जांच की मांग का ज्ञापन सीएम अशोक गहलोत को भेजन का निर्णय लिया गया था। मिटिंग में रामजी विश्रोई,जशवंत विश्राई,अधिवक्ता प्रेम विश्रोई,पूर्व सरपंच मनोहर लाल भादू,भंवरलाल विश्रेाई,लक्ष्मण राम विश्रोई समेत विश्रोई समाज के सामाजिक कार्यकर्ता शामिल थे।कानेर। राजस्थान पुलिस के ईमानदार और कृतव्यनिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजगढ थाना प्रभारी विष्णुदत्त विश्रोई के खुदकुशी प्रकरण की सीबीआई जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्यवाही की मांग को लेकर बीकानेर में विश्रोई समाज के प्रबुद्धजनों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ऑनलाईन ज्ञापन भेजा है। समाज के मांगीलाल विश्रोई जेंगला ने यह जानकारी देते हुए बताया कि विष्णुदत्त विश्रोई मजबूत आत्मबल वाले होनहार पुलिस निरीक्षक थे,राजनैतिक दबाव के चलते संदिग्ध हालातों में उनके खुदकुशी किये जाने से समाज की आत्म आहत हुई है। हमारी राज्य सरकार से मांग है कि इस प्रकरण की केन्द्रीय जांच ब्यूरों से जांच कराई जाकर दोषी लोगों को सलाखों के पीछे पहुंचाया जाये तथा दिवंगत विष्णुदत्त विश्रोई के परिजनों को आर्थिक मुआवजा दिया जाये। मांगीलाल विश्रोई ने बताया कि इस प्रकरण को लेकर शनिवार को हुई समाज के प्रबुद्धजनों की मिटिंग में दिंवगत सीआई विष्णुदत्त विश्रोई के प्रति शोक संवेदना व्यक्त कर सीबीआई जांच की मांग का ज्ञापन सीएम अशोक गहलोत को भेजन का निर्णय लिया गया था। मिटिंग में रामजी विश्रोई,जशवंत विश्राई,अधिवक्ता प्रेम विश्रोई,पूर्व सरपंच मनोहर लाल भादू,भंवरलाल विश्रेाई,लक्ष्मण राम विश्रोई समेत विश्रोई समाज के सामाजिक कार्यकर्ता शामिल थे।