आदरणीय पापा,
एक खुला पत्र आपके नाम,

आज बीकानेर निकाय चुनाव परिणाम पश्चात जब आपका कार्यकाल पूरा हो रहा है, मुझे बड़ा गर्व महसूस हो रहा है कि गत पाँच सालों में तमाम विकट परिस्थितियों का सामना करते हुए आपने बीकानेर के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी चाहे *नंदिशाला-गौशाला कार्य हो, सिवरेज कार्य हो, हर पोल पर एलईडी लाइट्स हो, नए सफ़ाई सैनिकों की भर्ती हो, नयी सफ़ाई मशीनरी हो, घर-घर कचरा कलेक्शन ऑटोड्रिपर हो, ग्रीन स्पेस डिवेलप्मेंट हो, सार्वजनिक शौचालय* हो व ऐसे अनेकों कार्य हों जो आपके कार्यकाल में संपन्न हुए हैं। इन सबका श्रेय लेने के लिए आप बोले ना बोले, मीडिया बोले ना बोले पर आपका काम बोला है, बीकानेर शहर जानता है। आज जन-जन का आप पर विश्वास रहा है और भाजपा का बोर्ड बनने जा रहा है। आपका स्वर्णिम कार्यकाल हमेशा सबकी स्मृति में रहेगा और जैसा सब कहते हैं और कहेंगे “महापौर को कोई डिगा नहीं सका, नैतिकता व ईमानदारी सब पर भारी पड़ी”। अनेक अवरोधों के बावजूद आपने 5 साल का पूरा कार्यकाल सफलतापूर्वक संपन्न किया। हमें आप पर गर्व है, नाज है।

मुझे हमेशा याद रहेगा की इतनी जिम्मेदारियाँ होते हुए भी आपने कभी अपनी दैनिक दिनचर्या चाहे वो *सामयिक हो, सूर्यास्त पूर्व भोजन हो, माला-उपासना हो, योग अभ्यास हो, घर में गौमाता की सार सम्भाल हो, कुछ नहीं छोड़ते हुए अपने शहर के प्रति कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन किया है व काकासा, मम्मी, भैया, भाभी, मित्रों व सभी परिजनों ने आपका ख़ूब सहयोग किया*। चाहे वो देर रात तक मेहमाननवाज़ी ही क्यूँ ना हो और मम्मी का मीठा सा ताना ही क्यूँ ना हो ये कहते हुए की रात को इतनी चाय कौन पीता है।

आपके मन में आज भी किसी प्रकार की लालसा चाहे वो पद की हो, मिडीया में बने रहने की हो, श्रेय लेने की हो कुछ नहीं है, सिर्फ़ लालसा है तो बीकानेर के विकास की है।

मुझे हमेशा याद रहेगा की सबने मुझे कहा है कि जीवन में अगर सफल होना है तो अपने पिता के आदर्शों व सिद्धांतों की पालना करना और मेरे ऐक्सिडेंट के बाद यही कहा है की तुझे दूसरा जन्म अपने पिता की पुण्याई की वजह से ही मिला है।

मुझे बड़ा गर्व है आज कि आपने पूरी ईमानदारी, कर्मठता व हमेशा सत्य का साथ देते हुए निस्वार्थ भाव से सिर्फ़ शहर के हितों में व शहर के विकास में ही निरंतर क़दम बढ़ाए। आप इसी तरह बढ़ते रहें पापा, आप हमारे परिवार का, समाज का, संघ परिवार का, भाजपा परिवार का व बीकानेर के विकास का एक मजबूत स्तम्भ हैं व बने रहेंगे। आपके स्वस्थ जीवन के प्रति व कल्याणकारी जीवन के प्रति मंगल कामना*।

प्रणाम
आपका बेटा
मिलाप नारायण चोपड़ा