Uncategorized

पांच दिनो से थाने छोड़कर सड़कों पर मुस्तैद है पुलिस

दिनभर लोगों को समझाइस और बेलगाम लोगों से करनी पड़ रही है मशक्कत
-मुकेश पूनिया-
बीकानेर। कोरोना को हराने के लिये देशव्यापी स्तर पर लागू लॉकडाउन का सफल बनाने के लिये पिछले पांच दिनों से थानों को छोड़कर सड़कों पर मुस्तैद पुलिस का पूरा दिन लोगों को समझाइस और बेलगाम लोगों की धरपकड़ में बीत रहा है। सख्ती के चलते पुलिस बिना वजह सड़कों पर निकलने वालों को डंडे मार रही है,गली मौहल्लों में गश्त करके लोगों को घरों में रहने ही हिदायत दे रही, फिर भी फितरती किस्म के कई लोग घरों में नहीं टिक रहे है। कई लोग पुलिस से ऐसे उलझ रहे हैं जैसे पुलिस ही सबसे बड़ी दुश्मन है, मानो कोरोना वायरस को पुलिस ही लाई है। इधर थानों में इक्के-दुक्के पुलिसकर्मी ही नजर आ रहे है। इसमे कोई दो राय नहीं है कि कोरोना वायरस का खौफ हर किसी में है।

देश व प्रदेश में लॉक डाउन है, इस कारण हर कोई घरों में कैद होकर अपनी सुरक्षा कर रहा है, लेकिन इस माहमारी में खुद को खतरे में डालते हुए बीकानेर की पुलिस अपनी ड्यूटी कर रही है, इस कारण यह लॉक डाउन सफल हो रहा है, सफल लॉक डाउन की वजह से ही बीकानेर में अब तक कोरोना कंट्रोल में है। चौबीस घंटे पुलिस सडक़ पर ड्यूटी कर रही है, पूरे जिले में पुलिसकर्मी व होमगार्ड रात-दिन ड्यूटी कर लॉक डाउन को लेकर तैनात है, इसके अलावा आरएसी को तैनात कर रखा है। रात दिन शहर सहित जिले में इन जवानों को दो शिफ्ट में काम करवाया जा रहा है। परिवार से दूर ये जवान आमजन के लिए ड्यूटी कर रहे हैं, ताकि लॉक डाउन सफल रहे और बीमारी आगे नहीं फैले। जिला पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा समेत जिला पुलिस के तमाम अधिकारी भी पिछले पांच दिनों से लॉकडाउन को सफल बनाने के लिये दौड़धूप करने के साथ पुलिस जवानों की हौंसलाफजाई में जुटे है।

जरूरत हालात को समझने और समझाने की
कोरोना को हराने के लिए पूरी दुनिया जूझ रही है। दुनिया के समृद्ध देश भी इसके सामने विवश हैं। इसी के खतरे के चलते राजस्थान में भी लॉकडाउन है। सिर्फ इसलिए कि लोग घर में रहें, सुरक्षित रहें। किसी एक के संक्रमण से कोई दूसरा संक्रमित न हो। यह खतरनाक वायरस फैले नहीं। कोई भी इस जानलेवा वायरस का शिकार न हो। इस भयानक खतरे के बीच भी पुलिस, डॉक्टर और मीडिया मैदान में डटे हैं। ताकि लोगों को समझा सकें। एहतियात और काम के बिना निकले लोगों को घरों तक सीमित रख सकें। कहीं किसी की लापरवाही तो कहीं दुस्साहस के कारण अनेक लोगों पर संक्रमण का साया मंडराने लगा। पुलिस और सरकार इसी कारण एहतियात बरत रही है, जो सभी लोगों को बरतनी चाहिए।