Uncategorized

पारंपरिक खेलों का त्रिदिवसीय उत्सव “धाड़ धुक्कड़” शुरू 

बीकानेर। श्री गोपेश्वर विद्यापीठ सैकेंडरी स्कूल के करुणा एवं ईको क्लब द्वारा आयोजित किए जा रहे त्रिदिवसीय पारंपरिक खेल उत्सव “धाड़ धुक्कड़” का शुभारंभ मंगलवार को राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड के स्थानीय संघ, गंगाशहर के परिसर में हुआ। इस आयोजन के प्रभारी विठ्ठल वल्लभ स्वामी ने बताया कि “धाड़ धुक्कड़” का उद्घाटन विद्यापीठ के समन्वयक गिरिराज खैरीवाल ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। इसके पश्चात शाला प्रधान भंवरी देवी व समन्वयक गिरिराज खैरीवाल ने सतोलियो खेल खेलकर खेल उत्सव की शुरुआत की। ओमप्रकाश स्वामी ने बताया कि आज सतोलियो खेल में भगतसिंह टीम विनर रही तथा उपविजेता सिस्टर निवेदिता टीम रही।

आंधल घोटो और जमाल घोटो खेल का उत्सव में सम्मिलित हो रहे सभी स्टूडेंट्स ने जमकर लुत्फ उठाया। इस अवसर पर खैरीवाल ने कहा कि हमारी परंपराएं और हमारे संस्कार डिजिटल युग में कहीं लुप्त न हो जाए इसलिए इस तरह के पारंपरिक पर्वों के माध्यम से विद्यार्थियों को पुरातन खेलों के बारे में जानकारी का इस से बेहतर और कोई रास्ता नहीं हो सकता। यह गौरव की बात है कि विद्यापीठ सदैव ही अपने नवाचारोन्मुखी आयामों की बदौलत स्टूडेंट्स व सोसाइटी को देश की गौरवशाली संस्कृति से जोड़ने के लिए समर्पित भाव से प्रयासरत है। कार्यक्रम का संचालन राण सिंह राजपुरोहित ने किया जबकि आभार भंवरी देवी ने व्यक्त किया। “धाड़ धुक्कड़” के दूसरे दिन बुधवार को कबड्डी, गिल्ली डंडा, बर्फ पानी इत्यादि पारंपरिक खेलों का आयोजन किया जाएगा।