– लॉकडाउन की मुश्किलों को मात दे रहे मानवता के मसीहा

बीकानेर – (ओम दैया )श्वव्यापी महामारी कोरोना संक्रमण (कोविड-19) से जब दुनिया के तमाम देश पस्त नजर आ रहे हैं, तब भी भारत की जीवटता न सिर्फ कोरोना को मात देने में कामयाब होती दिख रही है, बल्कि लॉकडाउन की मुश्किलों को भी आसान बनाने में सफल है। लॉकडाउन के दौरान कोई बिना भोजन के न रहे, खाली पेट न सोये, इसका ख्याल पुलिस, प्रशासन से लेकर सामाजिक संस्थाएं भी जी-जान से जुटी हैं।लेकिन इसमें साहित्यकार व कवि भी पीछे नही है।फन वर्ल्ड वाटर पार्क इंडस्ट्रीज के निर्देशक कवि नेमचंद गहलोत ,बाल दुराचार विरोधी टास्क फोर्स शारदा सामाजिक सरोकार के समन्वयक प्रभा भार्गव और सदस्य अरुणा भार्गव ने शहरों के जुग्गी-झोपड़ी में निवास करने वाले जरूरत मंदो , दिहाड़ी मजदूर के बीच प्रतिदिन सब्जी,रोटी,पूड़ी,सूखे हरे साग,आटा, बिस्किट आदि बांटकर सेवा कार्य कर रहे है।फन वर्ल्ड के निर्देशक कवि नेमचंद गहलोत ने बताया कि पीड़ित मानवों की सेवा दिल को सुकून देती है जब से लॉक डाउन शुरू हुआ हैं यह संस्थाए बगैर भेदभाव के सभी की सेवा में जुटी है।

अन्न के साथ मास्क का भी वितरण कर रहे है।जिसको जैसी सुविधा चाहिए वो पूरी करने की भरसक प्रयास करते है।उन्होंने किसी को दवा की जरुरत होती है तो उससे डॉक्टर की पर्ची लेकर अगले दिन दवा पहुंचाई जाती है।इस कार्य मे जानी देवी,जुगल किशोर,अनिल कुमार गहलोत के साथ गुरुदयाल, तुलसी राम मोदी,समाज सेवी संतोष कच्छवा, रामेश्वर सोनी साधक,किसननाथ,परमेश्वर सोनी आदि सेवा कार्य में जुटे है।उन्होंने कहा जब तक लॉक डाउन चलेगा यह सेवा जारी रहेगा।