मोहाली। पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी बलवंत सिंह मुल्तानी केस में सोमवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) के सामने पेश हुए। सुबह ग्यारह बजे वे मटौर थाने पर पहुंचे। थाने के बाहर मटौर के एसएचओ ने उन्हें रिसीव किया। इसके बाद उन्हें अंदर ले जाया गया। जहां जांच दल पूर्व डीजीपी से पूछताछ करने में जुटा है। इस दौरान थाने के बाहर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों और मीडियाकर्मी तैनात रहे। हालांकि इससे पहले भी एक बार उन्हें जांच में शामिल होने के लिए बुलाया गया था। लेकिन वह पहुंचे नहीं थे। उनकी ओर से दलील दी गई थी कि वह फिट नहीं हैं। डॉक्टर ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। बता दें कि यह मामला साल 1991 का है। जब सुमेध सिंह सैनी चंडीगढ़ में एसएसपी के पद पर तैनात थे।

इस दौरान उन पर एक आतंकी हमला हो गया था। इसमें उनके तीन सुरक्षा कर्मियों की मौत हो गई थी। जबकि उनका बचाव हो गया था। आरोप है कि इस हमले के बाद उन्होंने सिटको में जेई के पद तैनात आईएएस के बेटे बलवंत सिंह मुल्तानी को उनके मोहाली फेज-7 स्थित घर से उठाया था। उसके बाद उसका कुछ पता नहीं चला। बलवंत सिंह मुल्तानी के परिजनों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट तक जंग लड़ी थी। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। इसी बीच सैनी के साथी रहे एक पुलिसकर्मी ने एक मैगजीन को इंटरव्यू दिया था। उसी के आधार पर परिजनों ने पुलिस को शिकायत दी, जिसके बाद पूर्व डीजीपी पर केस दर्ज हुआ था।