Uncategorized

प्रशिक्षण को रोजगार स्वरोजगार से जोड़ने पर ही सार्थकता: मूलचंद सेवग

-एक्स ट्रेनीज मीट कार्यक्रम में दी गई बैंक ऋण योजनाओं की जानकारी बीकानेर /कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा संचालित जन शिक्षण संस्थान बीकानेर की ओर से श्री कोलायत तहसील के झझू गांव में आज दिनांक 11 दिसंबर को ग्राम पंचायत सभागार में जन शिक्षण संस्थान के प्रशिक्षुओं के साथ एक्स ट्रेनीज मीट कार्यक्रम का आयोजन किया गया।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ग्राम पंचायत झझू के सरपंच श्री मूलचंद सेवग ने कहा कि प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद रोजगार व स्वरोजगार से जुड़कर अपने पैरों पर खड़ा होने पर ही इस प्रकार के प्रशिक्षण ओं की सार्थकता सिद्ध हो सकेगी ।कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि वित्तीय साक्षरता संयोजक एवं सेवानिवृत्त लीड बैंक अधिकारी अधिकारी श्री सी के शर्मा द्वारा प्रशिक्षुओं को स्वरोजगार से जुड़कर आत्मनिर्भर बनने के लिए बैंक की विभिन्न ऋण योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना आदि की महती जानकारी दी गई ।श्री शर्मा ने कहा कि बैंक यदि ऋण नहीं देते हैं तो उनका संचालन बहुत कठिन हो जाएगा इसके साथ ही उन्होंने ऋण योजनाओं में ऋण लेने के आवश्यक पत्रों और संबंधित तैयारी के साथ ऋण आवेदन के क्रमवार चरणों की जानकारी देते हुए कहा कि वास्तव में जो ऋण लेकर अपने पैरों पर खड़ा होना चाहते हैं उनके लिए सभी बैंक ऋण देने के लिए तैयार हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हम अपनी आमदनी से जितना ऋण चुका सकते हैं उतने ऋण के लिए ही आवेदन करें। इससे बैंक में आपकी अच्छी साख बनेगी और भविष्य में बड़े ऋण के लिए आपका मार्ग भी खुलेगा।संस्थान के कार्यक्रम अधिकारी ओमप्रकाश सुथार ने जन शिक्षण संस्थान की संकल्पना और उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए निरक्षर नवसाक्षर और अल्प शिक्षितों को संस्थान के माध्यम से हाथ का हुनर सीख कर आत्मनिर्भर बनने का संदेश दिया।इस अवसर पर प्रशिक्षुओं की ओर से सुनील कुमार पुरोहित वसुंधरा सुथार यास्मीन बानो मुमताज बानो और शहनाज बानो आदि ने हाथ का हुनर सीख कर स्वरोजगार से जुड़ने की अपनी बात रखी।कार्यक्रम के प्रथम चरण में आगंतुक अतिथियों सरपंच श्री मूलाराम सेवग और विशिष्ट अतिथि श्री सीके शर्मा के कर कमलों से प्रशिक्षुओं को संबंधित प्रशिक्षण के प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए।कार्यक्रम में आगंतुकों के प्रति संस्थान की ओर से आभार संस्थान के कार्यक्रम सहायक उमाशंकर आचार्य द्वारा व्यक्त किया गया