Uncategorized

बीकानेर सार समाचार

रेल फाटकों की समस्या के समाधान के लिए 15 दिन में कमेटी देगी सुझाव
समन्वय के लिए कमेटी गठित
बीकानेर, 31 दिसम्बर। जिला मुख्यालय स्थित कोटगेट व सांखला रेलवे फाटकों की समस्या के समाधान के लिए जिला स्तर पर वरिष्ठ अभियन्ताओं की एक कमेटी का गठन किया गया है। जिला कलक्टर एवं नगर विकास न्यास अध्यक्ष कुमार पाल गौतम ने बताया कि रेल फाटकों की समस्या के समाधान के लिए गठित की गई इस तकनीकी कमेटी में सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता, राजस्थान अर्बन इन्फ्राट्रक्चर डेवलपमेंट एंड कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन लिमिटेड, बीकानेर के अधीक्षण अभियंता, आरयूआईडीपी बीकानेर के अधिशाषी अभियंता, मंडल रेल प्रबंधक बीकानेर सीनियर डीईएन तथा नगर विकास न्यास के अधीक्षण अभियंता को सदस्य बनाया गया है।
गौतम ने बताया कि कमेटी आपसी समन्वय और सामंजस्य रखते हुए रेल फाटकों की समस्या के समाधान के संबंध में विस्तृत अध्ययन, मौका निरीक्षण तथा आवश्यक सर्वे करते हुए 20 दिन के भीतर अपनी सुझावात्मक रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

पंचायती राज चुनाव 2020

सामान्य जनजीवन व लोकशांति के लिए धारा 144 लागू
जिला मजिस्ट्रेट ने जारी किए आदेश
बीकानेर, 31 दिसम्बर। पंचायती राज चुनाव-2020 के मद्देनजर सामान्य जनजीवन व लोकशांति बनाए रखने के उददेश्य से जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट कुमार पाल गौतम ने दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिले की पंचायत समिति बीकानेर, नोखा, पांचू एवं श्रीडूंगरगढ़ के सम्पूर्ण पंचायत समिति क्षेत्र में तत्काल प्रभाव से विभिन्न प्रतिबंध लगाए हैं। ये प्रतिबंध 25 जनवरी 2020 तक लागू रहेंगे। इस आदेश की अवहेलना भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के अन्तर्गत दण्डनीय होगा ।
गौतम ने बताया कि मतदान से पूर्व चुनाव सभाओं में, चुनाव के दिन तथा मतगणना के समय व मतगणना के बाद विवाद तथा तनाव उत्पन्न होने की एवं असामाजिक तत्व व साम्प्रदायिक भावना भड़काने वाले तत्वों द्वारा अवांछनीय गतिविधियों से सामान्य जनजीवन व लोकशांति के विक्षुब्द्ध होने की आशंका है। उन्होंने बताया कि कोई भी व्यक्ति किसी भी भाग में किसी भी प्रकार के आग्नेय अस्त्र-शस्त्र जैसे रिवाल्वर, पिस्तौल, बन्दूक, बी.एल. गन एवं एम.एल. गन, राईफल्स व धारदार हथियार जैसे तलवार, गंडासा, फरसा, चाकू, भाला, कृपाण, बर्छी अथवा लाठी आदि लेकर नहीं चलेगा एवं ना ही प्रदर्शन करेगा। यह आदेश सीमा सुरक्षा बल, राजस्थान सशस्त्र पुलिस, सिविल पुलिस होमगार्ड एवं उन राज्य एवं केन्द्र कर्मचारियों पर जो कानून एवं व्यवस्था के संबंध में अपने पास हथियार रखने हेतु अधिकृत किये गये हैं, पर लागू नहीं होगा। सिख समुदाय के व्यक्तियों को धार्मिक परम्परा के अनुसार निर्धारित कृपाण रखने की छूट होगी। गौतम ने बताया कि आदेश शस्त्र अनुज्ञा-पत्र नवीनीकरण हेतु आदेशानुसार शस्त्र निरीक्षण करवाने अथवा शस्त्र पुलिस थाना में जमा कराने हेतु ले जाने पर लागू नहीं होगा तथा राष्ट्रीय राईफल एसोसियेशन के वह सदस्य जो प्रतियोगिता की तैयारी एवं भाग लेने जा रहे है, उन पर यह आदेश लागू नही होगा।
जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी आदेशानुसार जिले से बाहर का कोई भी व्यक्ति बीकानेर जिले की सीमा में इस किस्म के हथियारों को अपने साथ नहीं लाएगा, ना ही सार्वजनिक स्थानों पर प्रयोग एवं प्रदर्शन करेगा।
बिना अनुमति के नहीं होगी सभा, जुलूस
आदेशानुसार जिले की पंचायत समिति बीकानेर, नोखा, पांचू एवं श्रीडूंगरगढ़ के सम्पूर्ण पंचायत समिति क्षेत्र में कोई व्यक्ति, राजनीति पार्टी, संस्था बिना वैध अनुमति के जुलूस,सभा, रैली एवं सार्वजनिक सभा नहीं कर सकेगा, न ही ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग कर सकेगा। जिले में कोई व्यक्ति अथवा राजनीतिक दल, संस्था किसी जुलूस, सभा एवं सार्वजनिक मीटिंग में ध्वनि विस्तारक यंत्रों (लाउड स्पीकर) का उपयोग सुबह छह बजे से रात दस बजे तक की अवधि में सक्षम अधिकारी की लिखित अनुमति के बाद ही कर सकेगा। चुनाव परिणाम के पश्चात् सक्षम अधिकारी की अनुमति के बिना विजय जुलूस पर प्रतिबंध रहेगा।

जूनागढ़ से शक्तिपीठ तक भ्रमण करेंगे कच्ची बस्ती के बच्चे
नववर्ष पर शहर से रूबरू करवाने का तोहफा देगा प्रशासन
बीकानेर, 31 दिसम्बर। नववर्ष की शुरूआत पर बुधवार को बीकानेर जिला प्रशासन द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर कच्ची बस्तियों में रहने वाले बच्चों का शैक्षणिक भ्रमण का तोहफा दिया जाएगा। नई पहल के रूप में इन बच्चों को शहर के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक स्वरूप से रूबरू करवा कर मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा।
जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने बताया कि कच्ची बस्तियोें में रहने वाले बच्चों को शहर के ऐतिहासिक स्थलों का भ्रमण करवा कर उनके साथ नये साल की शुरूआत की जाएगी। इस शैक्षणिक भ्रमण की शुरूआत प्रातः 11 बजे से कलेक्ट्रेट परिसर से होगी। इसके बाद इन बच्चांे को जूनागढ़ किला, म्यूजियम, रामपुरिया हवेली, लक्ष्मीनाथ जी मंदिर, नैतिकता का शक्तिपीठ का भ्रमण करवाया जाएगा। साथ ही इन बच्चों को भोजन तथा नये साल का गिफ्ट भी दिया जाएगा।
भ्रमण संयोजक डाॅ. चन्द्रशेखर श्रीमाली ने बताया कि जिला कलक्टर की इस पहल में दयासागर मंदबुद्धि सेवा संस्थान तथा आचार्य तुलसी शांति प्रतिष्ठान सहयोगी संस्थान के रूप में है। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम कलेक्ट्र्ट परिसर से हरी झंडी दिखाकर कार्यक्रम की शुरूआत करेंगें। वही कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि शिशु रोग विशेषज्ञ डाॅ. श्याम अग्रवाल तथा एटीएसपी के अध्यक्ष लूणकरण छाजेड़ हांेगे। इस भ्रमण को सफल बनाने के लिए कई सामाजिक संगठन सहयोग कर रहे है। जिला कलक्टर ने मीडिया और आमजन से इन बच्चों से मुलाकात कर उनका हौंसला अफजाई करने की अपील की, ताकि बच्चों में आत्मविश्वास बढ़े और वे अपने शहर के बारे में और अधिक जान सकें।

नापासर ई मित्र प्लस मशीन पर हुए सर्वाधिक ट्रांजेक्षन
बीकानेर, 31 दिसम्बर। बीकानेर पंचायत समिति के नापासर ग्राम पंचायत स्थित ई-मित्र प्लस मषीन के आॅपरेटर मषीन पर दिसम्बर माह में जिले में सर्वाधिक ट्रांजेक्षन किए तथा विभिन्न जनोपयोगी सेवाएं प्लस मषीन के माध्यम से आमजन को उपलब्ध कराई।
गौरतलब है कि सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग द्वारा जिले के प्रत्येक ग्राम पंचायत के भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्रों पर ई-मित्र प्लस मषीन स्थापित की गई है जिसके माध्यम से आम नागरिक विभिन्न सुविधाएं यथा मूल निवास, जाति, जन्म-मृत्यु, विवाह, विकलांगता प्रमाण पत्र, जन-आधार कार्ड प्रिंट, डिजीटल जमाबंदी, गिरदावरी रिपोर्ट, बिजली, पानी, मोबाइल के बिल भुगतान व रिचार्ज करा सकते है व साथ ही जन-सूचना पोर्टल से संबंधित अपने क्षेत्र के विभिन्न जानकारियां भी प्राप्त कर सकते है।

750 आरडी पर स्केप क्षेत्र में पक्षी सुरक्षित
बीकानेर, 31 दिसंबर। इंदिरा गांधी नहर की 750 आरडी पर स्केप क्षेत्र में करीब 3000 पक्षी बसेरा किए हुए हैं। वन संरक्षक भीम सिंह सोलंकी ने बताया कि सर्दियों में यहां हजारों पक्षी आते हैं। सांभर झील और अजमेर में पक्षियों की असाधारण मृत्यु की घटनाओं के बाद क्षेत्र में वन मंडल के स्टाफ ने नियमित निरीक्षण में सभी स्थितियों को सामान्य पाया है और यहां किसी पक्षी के मरने की जानकारी नहीं मिली है। उन्होंने बताया कि पक्षियों के लिए यह उपयुक्त क्षेत्र है जिसमें वन्यजीवों के अतिरिक्त पनकौवा, पनडुब्बी अंजन, पोण्ड हरोन जलमुर्गी टिटहटी, वुड सैंडपाइपर, कोयल जैसे पक्षी अक्टूबर से फरवरी मार्च तक बसेरा करते हैं।

पशु अपशिष्ट प्रबंधन की जानकारी किसानों तक पहुंचना जरूरी- डाॅ.सावल
एनआरसीसी द्वारा प्रेस काॅन्फ्रेंस का आयोजन
बीकानेर, 31 दिसम्बर। भाकृअनुप-राष्ट्रीय उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र, बीकानेर द्वारा मंगलवार को स्वच्छता पखवाड़े का समापन किया गया। इस अवसर पर प्रेस वार्ता में केन्द्र निदेशक डाॅ.आर.के.सावल ने कहा कि स्वच्छता के प्रति जागरूक होना अत्यंत आवश्यक है तथा इस हेतु हमें प्रत्येक पहलू पर गौर करना है। केन्द्र एक अनुसंधान संस्थान होने के साथ पर्यटन स्थल के रूप में अपनी पहचान रखता है, ऐसे में केन्द्र स्वच्छता गतिविधियों पर भी विशेष जोर देते हुए उँटों से प्राप्त मींगणी/पेड़ों की पत्तियों आदि से केंचुआ खाद तैयार की है तथा यह कृषि/वनस्पतियों के लिए बहुत ही लाभदायक है। उन्होंने बताया कि किसान इस खाद को बनाने की विधि की जानकारी ले सकते हैं, साथ ही पैकेट के रूप में इसे केन्द्र से प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने सिंगल यूज प्लास्टिक उपयोग से होने वाले नुकसानों के बारे में भी जागरूक करते हुए रोजमर्रा के जीवन में इसका उपयोग बन्द करने की बात कही। उन्होंने ऊँटनी के दूध एवं उष्ट्र विकास एवं संरक्षण के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर केन्द्र के प्रशासनिक अधिकारी व नोडल अधिकारी आर.ए.साहू ने पखवाड़े की स्वच्छता संबंधी विभिन्न गतिविधियों पर भी प्रकाश डाला। इस अवसर पर केन्द्र द्वारा निष्पादित स्वच्छता संबंधी गतिविधियों को प्रदर्शित भी किया गया।
——