Uncategorized

भाजपा शासित राज्यों में प्रदर्शनकारियों का क्रूरता से दमन कर रही है-डीवाईएफआई

हर्षित सैनी
रोहतक, 28 दिसम्बर। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ शांतिपूर्वक प्रदर्शन करने वाले प्रदर्शनकारियों का भाजपा शासित राज्य में क्रूरता से दमन किया जा रहा है। इस दमन का विरोध करने के लिए दिल्ली में उत्तर प्रदेश भवन पर विभिन्न संगठनों व नागरिकों की ओर से विरोध मार्च का आयोजन किया गया।
जनवादी नौजवान सभा के प्रांतीय सचिव संदीप सिंह ने आरोप लगाया है कि दिल्ली पुलिस ने इस विरोध मार्च पर दमन करके लगभग 400 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया, जिसमें भारत की जनवादी नौजवान सभा (डी वाई एफ आई) के अखिल भारतीय अध्यक्ष पी ए मोहम्मद रियाज को भी लाठीचार्ज के बाद गिरफ्तार किया गया।

डी वाई एफ आई राज्य कार्यकारिणी ने लोकतांत्रिक ढंग से अपना विरोध दर्ज करवा रहे प्रदर्शनकारियों के आंदोलन को तानाशाही व क्रूरता से दबाने की कड़े शब्दों में निंदा की है।
उन्होंने कहा है कि केंद्र की भाजपा सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून में नागरिकता के साथ धर्म को जोड़कर संविधान विरोधी कार्य किया है। सरकार के इस कदम के खिलाफ पूरे देश में हजारों की संख्या में नागरिक सड़कों पर आकर अपना विरोध दर्ज करवाया रहे हैं।

संदीप सिंह ने कहा कि सरकार जनता के विरोध की आवाज को अनसुना करके इसे दबाने के लिए दमनकारी हथकंडे अपना रही है। भारत की जनवादी नौजवान सभा (डीवाईएफआई) मांग करती है कि सरकार प्रदर्शनकारियों की आवाज को सुने और दमनकारी हथकंडों को तुरंत बंद करें।