Uncategorized

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के फाउंडर डॉ. राजेंद्रकुमार जोशी और कुलपति डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला को शिक्षा के क्षेत्र में असाधारण योगदान के लिए ईएआईई में किया गया सम्मानित

15 अक्टूबर, 2019, हेलसिंकी

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के संस्थापक डॉ. राजेंद्रकुमार जोशी और विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला को शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए यूरोपियन एसोसिएशन फॉर इंटरनेशनल एजुकेशन (ईएआईई) सम्मेलन में सम्मानित किया गया। सम्मेलन 24 से 27 सितंबर तक फिनलैंड के हेलसिंकी में आयोजित किया गया और सम्मेलन में 95 देशों के लगभग 6,000 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। डॉ. राजेंद्रकुमार जोशी को ‘ग्लोबल विजनरी लीडर इन स्किल एजुकेशन’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया, वहीं डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला को ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ प्रदान किया गया।

डॉ. जोशी ने देश के युवाओं को कौशल शिक्षा प्रदान करके भारत को विकसित करने के उद्देश्य से 2016 में भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) की शुरुआत की। डॉ. (ब्रिगेडियर) पाब्ला ने संस्थापक कुलपति के रूप में विश्वविद्यालय को सुचारू रूप से चलाने के लिए स्वयं दायित्व लिया और यह सुनिश्चित किया कि छात्रों को सर्वोत्तम शिक्षा मिले। बीएसडीयू, स्विस-ड्यूल-सिस्टम का अनुसरण करता है जो छात्रों को एक सेमेस्टर विश्वविद्यालय में और दूसरा सेमेस्टर उद्योग में बिताने की सुविधा देता है, जहां वे फील्ड प्रशिक्षण लेते हैं।

भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) के कुलपति डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला ने कहा, ‘ईएआईई से यह पुरस्कार प्राप्त करना एक सबसे बडा सम्मान है। हमने हमेशा कौशल आधारित शिक्षा के महत्व को बढ़ावा दिया है और इसी पर जोर दिया है क्योंकि एक कुशल कार्यबल होने से न केवल देश को विकसित होने में मदद मिलेगी, बल्कि यह आर्थिक संकटों के सबसे बुरे दौर से भी बचने में मदद करेगा। हमारे छात्रों को एक ऐसा वातावरण दिया गया है जहां वे न केवल अकादमिक उत्कृष्टता की ओर बढ़ते हैं बल्कि वे इंटर्नशिप के माध्यम से व्यावहारिक ज्ञान और अनुभव प्राप्त करने के अवसर भी प्रदान करते हैं। बीएसडीयूएक छात्र-एक मशीन प्रणाली का अनुसरण करता है, जिसमें प्रत्येक छात्र को सीखने के लिए एक मशीन मिलती है।’

डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीतसिंह पाब्ला खुद आईआईटी बॉम्बे से एम.टेक और पीएच डी के साथ मैकेनिकल इंजीनियर हैं। डॉ. पाब्ला पांच विश्वविद्यालयों के कुलपति, एक विश्वविद्यालय के प्रो वीसी और दो प्रौद्योगिकी संस्थानों के निदेशक रहे हैं। सेना की इकाइयों के अलावा सेना में उनके अनुभव में इंजीनियरिंग व्यावसायिक कार्य और प्रशासन भी शामिल है। कई बुनियादी ढांचा परियोजनाओं, शिक्षाविदों और अकादमिक प्रशासन में समृद्ध अनुभव के साथ डॉ पाब्ला का उद्देश्य छात्रों को उद्योग के साथ गतिशील शिक्षा प्रणाली प्रदान करके शिक्षा प्रणाली में सकारात्मक बदलाव लाना है।
राजस्थान में आरयूजे समूह के संस्थापक और अध्यक्ष डॉ. राजेंद्रकुमार जोशी विकास के लिए देश में सुधार के लिए सपने देखने वाले अग्रणी लोगों में से एक थे। उन्होंने बिट्स पिलानी से अपनी फार्मेसी की डिग्री पूरी की और बाद में अपनी पीएच डी के लिए स्विट्जरलैंड चले गए और रिसर्च एसोसिएट और प्रोफेसर के रूप में शामिल हुए। उन्होंने पीएच डी के कई छात्रों को मापदंडों पर निर्देशित किया जो एक रासायनिक संरचना की आणविक ऊर्जा के साथ जैविक गतिविधि की गणना कर सकते थे।

बीएसडीयू के बारे में
भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) कौशल आधारित यूनिवर्सिटी है। बीएसडीयू को स्थापित करने के पीछे उद्देश्य भारतीय प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों को उत्पन्न करते हुए उन्हें विधिवत ट्रेनिंग, गुणवत्तापूर्ण इंफ्रास्ट्रक्चर, और बेहतरीन तरीके से डिजाइन किया गया पाठ्यक्रम उपलब्ध कराना है, ताकि वे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा के लिए काबिल बन सकें। छात्रों को विशेषज्ञों की देखरेख में प्रशिक्षण मिलता है और मशीनरी के साथ ठीक से काम करने का अनुभव प्राप्त होता है। विश्वविद्यालय छात्रों को व्यावहारिक प्रशिक्षण प्रदान करता है और प्रत्येक व्यक्ति को बेहतर प्रशिक्षण देने के लिए 1 छात्र = 1 मशीन के आदर्श वाक्य का अनुसरण किया जाता है। बीएसडीयू विनिर्माण और सेवा उद्योग के लिए छात्रों को प्रशिक्षण प्रदान करने की दिशा में काम करता है और उन्हें कौशल के अनुसार कॅरियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करता है।