Uncategorized

मक्खन जोशी की स्मृति में महिला जागृति अभियान ‘सक्षमा’ प्रारम्भ

– बाड़मेर की रूमा देवी होंगी अभियान की ‘ब्रांड एमबेसडर’
– महापौर सुशीला कंवर ने किया ‘लोगो’ का विमोचन

बीकानेर, 14 जनवरी। नगर विकास न्यास के पूर्व अध्यक्ष तथा जननेता स्व. मक्खन जोशी की 19वीं पुण्यतिथि के अवसर पर मंगलवार को महिला जागृति का वार्षिक अभियान ‘सक्षमा’ प्रारम्भ हुआ। राष्ट्रपति द्वारा ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ प्राप्त बाड़मेर की रूमा देवी ने वीडियो के माध्यम से अपना संदेश दिया। रूमा देवी ‘सक्षमा’ की ब्रांड एम्बेसडर होंगी। वहीं, महापौर सुशीला कंवर राजपुरोहित और गायत्री व्यास ने इसके ‘लोगो’ का विमोचन किया।
इस अवसर पर महापौर ने कहा कि महिला सशक्तीकरण की दिशा में संस्था द्वारा की जा रही शुरूआत अनुकरणीय है। महिलाएं सशक्त होंगी तो समाज भी सशक्त होगा। उन्होंने कहा कि युवा राजनैतिक कार्यकर्ताओं के लिए मक्खन जोशी के सिद्धांत और उनका कृतित्व पाठशाला है। वह छत्तीस कौम को साथ लेकर चलते थे। उन्होंने राजनीति में जो आयाम स्थापित किए, उन्हें आने वाली पीढ़ियां याद रखेंगी। उन्होंने कहा कि उनकी स्मृति में गठित संस्था द्वारा सामाजिक सरोकार के कार्य उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि हैं।

अभियान प्रभारी अविनाश जोशी ने कहा कि ‘सक्षमा’ के तहत पूरे साल विभिन्न गतिविधियां आयोजित होंगी। इनमें सतत परिश्रम की बदौलत सफलता हासिल करने वाली महिलाओं को ‘दुर्गा शक्ति अवार्ड’ तथा जरुरतमंद बालिकाओं को शिक्षार्जन के लिए छात्रवृत्ति देना, महिला सशक्तीकरण से संबंधित व्याख्यान, स्वरोजगार प्रशिक्षण, संवाद एवं कार्यशालाएं आदि आयोजित की जाएंगी।
मक्खन जोशी वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष शांति प्रसाद बिस्सा ने कहा कि संस्था द्वारा जल बचत, पर्यावरण संरक्षण, स्वच्छता, युवा जागृति तथा मतदाता जागरुकता से संबंधित विभिन्न कार्यक्रम किए गए हैं। संस्था का प्रमुख उद्देश्य स्मृतिशेष मक्खन जोशी के सिद्धांतों का अनुसरण करना है। संस्था इस दिशा में अनवरत कार्य करेगी। उन्होंने स्व. मक्खन जोशी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व से जुड़े विभिन्न प्रसंग बताए।
पूर्व न्यासी अरविंद मिढ्ढा ने कहा कि परहित के लिए अपना जीवन समर्पित कर देने वालों को कभी भुलाया नहीं जा सकता। स्व. मक्खन जोशी ऐसे व्यक्तित्व थे। उन्होंने सदैव आमजन से जुड़े मुद्दों की पैरवी की। आज के दौर में ऐसे राजनीतिज्ञों की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को समाज की मुख्य धारा से जोड़ना हमारा सामूहिक कर्तव्य है। इस दिशा में प्रयास करना श्रेष्ठ है।

परिवार की धुरी हैं महिलाएं
इस अवसर पर रूमादेवी के वीडियो का प्रसारण किया गया। उन्होंने संस्था की पहल का स्वागत किया तथा कहा कि महिलाएं परिवार और समाज की धुरी होती हैं। सशक्ती और स्वावलम्बी महिला मां, बेटी, पत्नी और बहिन के रूप में परिवार को बुलंदियों तक पहुंचा सकती हैं। उन्होंने कहा कि उनकी मंशा अभियान के शुभाम्भ में शामिल होने की थी, लेकिन राजस्थान से बाहर होने के कारण ऐसा संभव नहीं हो सका। रूमादेवी ने कहा कि महिलाएं यदि ठान लें तो उनके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।
पांच किशोरियों को दी प्रोत्साहन राशि
इस अवसर पर अजीत फाउण्डेशन द्वारा चयनित पांच जरूरतमंद किशोरियों को एक-एक हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी गई। वहीं ‘स्वच्छ, स्वस्थ और शिक्षित बीकाणा’ अभियान में सहयोग करने पर योग शिक्षक भुवनेश पुरोहित, यशोवर्द्धिनी पुरोहित, मोना सरदार डूडी का सम्मान किया गया। यशोवर्द्धिनी ने ‘सक्षमा’ के तहत जनवरी में ही महिला योग प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने की जानकारी दी।
इससे पहले महापौर एवं अन्य अतिथियों ने स्व. मक्खन जोशी के चित्र के समक्ष पुष्पांजलि अर्पित की तथा ‘सक्षमा’ के ‘लोगो’ का विमोचन किया। इस दौरान बृजराज जोशी, संजय श्रीमाली, डाॅ. पी.एस. वोरा, रविंद्र सिंह, डाॅ. मीनाक्षी शर्मा, डाॅ. अंजलि रंगा, पूर्व पाषर्द नरेश जोशी, रामकुमार रंगा, सावरलाल, धनराज मारु सहित अनेक लोग मौजूद रहे।