Uncategorized

राष्ट्रीय मंसूरी समाज का अधिवेशन बीकानेर में सम्पन्न

15 साल पश्चात् बिरादरी हुई संगठित
बीकानेर में जकात फंड और रोज़गार फंड से खुलेगे महिला मदरसा और सिलाई केन्द्र, महिला सशक्तिकरण व रोजगार के अवसर बढ़ाकर समाज को मुख़्यधारा से जोड़ेगें – युनूस मंसूरी राष्ट्रीय अध्यक्ष
तालीम से ही घर, समाज और देश का निर्माण होगा, बालिका शिक्षा को मजबुत किया जाये – संरक्षक हाजी डॉ हनीफ मंसूरी
बीकानेर /टिपू सुल्तान जंयती माह के अन्तर्गत मंसूरी मदरसा फाज़ल शाह पीर पर राष्ट्रीय मंसूरी समाज का जिला स्तरीय अधिवेशन राष्ट्रीय अध्यक्ष यूनुस मंसूरी के मुख्य आतिथ्य व शफि मंसूरी, डॉ हनीफ मंसूरी, बुंदु अली मंसूरी, रहमत अली मंसूरी, शेर मोहम्मद मंसूरी कि सरपरस्ती में संपन्न हुआ| तिलावत ए कुरआन से अधिवेशन का आगाज़ शफि मोहम्मद मंसूरी ने किया और बीकानेर मंसूरी समाज कि वर्तमान स्तिथि से अवगत कराया|
राष्ट्रीय अध्यक्ष युनूस मंसूरी ने बीकानेर मंसूरी समाज को ज़कात फंड, रोजगार फंड, महिला सशक्तिकरण के लिए मुफ्त महिला मदरसा व सिलाई केन्द्र से होने वाले लाभ से अवगत करा जल्द से जल्द बीकानेर में शुरू करने का कहा|
और बताया कि राष्ट्रीय मंसूरी समाज के द्वारा जितने भी कार्य किये जा रहे है वो देश निर्माण और राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देने वाले है इल्मी इदारो में सभी धर्मो व समाज के लिए लोग शिक्षा ले रहे है|
वरिष्ठ अधिवक्ता मोहम्मद रफ़ीक़ मंसूरी ने समाज को विभिन्न सरकारी योजना व मंसूरी समाज के आरक्षण से मिलने वाले लाभ बताये व समाज को जागरूक बन इन लाभ को लेकर विकस और उन्नति करने के विचार व्यक्त किये|
युवा समाजसेवी समीर मंसूरी ने बताया कि 15 साल बाद मंसूरी समाज राष्ट्रीय मंसूरी समाज के बैनर तले एक हुआ जिससे सभी समाजजन बहुत ख़ुश है| मास्टर शाकिर मंसूरी ने समाज कि वर्तमान में शिक्षा और सरकारी नौकरी के महत्व को बताते हुए विभीन्न कोर्स के लिए छात्रवृति से उच्च शिक्षा लेने की बात कही|
अधिवेशन में आरीफ मंसूरी (हाफिज इमरान मंसूरी), युवा समाजसेवी समीर मंसूरी, लियाकत मंसूरी, पत्रकार साहिल मंसूरी, अधिवक्ता छोटु मंसूरी, चांद मंसूरी, डॉ मोहम्मद हनीफ मंसूरी, शफि मंसूरी, जहुरूद्दीन मंसूरी, अब्दुल कय्युम मंसूरी, अकरम मंसूरी, न्याज़ मो मंसूरी, राजु मंसूरी सहित मंसूरी समाज के प्रबुद्घजनो ने शिरकत की| सरपरस्त मरहुम बुंदु मंसूरी साहब को ख़िराज ए अकिदत पैश कर मगफिरत कि दुआ कि गई|