Uncategorized

विश्व एड्स दिवस पर संवाद कार्यक्रम आयोजित

बीकानेर। कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार सरकार द्वारा वित्त पोषित जन शिक्षण संस्थान, बीकानेर की ओर से विश्व एड्स दिवस पर संवाद कार्यक्रम राजकीय प्राथमिक विद्यालय, वार्ड नं. 32 लूनकरणसर में आयोजित किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि केनरा बैंक के लूनकरणसर शाखा धान मंडी के प्रबंधक तरूण भार्गव ने एड्स की जानकारी के साथ साथ संस्थान द्वारा विभिन्न कौशल प्रशिक्षणों के प्रमाण पत्र वितरण करते हुए कहा कि वे प्रशिक्षण के बाद स्वरोजगार के लिए स्वयं का काम शुरू कर सकती है। इसके लिए बैंक से ऋण लेकर अपना स्वरोजगार स्थापित कर सकते है। भार्गव ने कहा कि आप व्यवसाय की प्रोजेक्ट रिपोर्ट सही ढंग से बनाकर बैंक के सामने प्रस्तुत करेंगे तो बैंक आपको अवश्य ऋण देगा और आप समय पर बैंक की किश्त ओर ब्याज का भुगतान करके बैंक के अच्छे ग्राहक बनते है तो बैंक आगे भी आपको सहायता करने के लिए तत्पर रहेगा। भार्गव ने जन शिक्षण संस्थान के इस तरह की गतिविधियों की सराहना की।
संस्थान से विभिन्न व्यवसायिक प्रशिक्षण प्राप्त कर रही प्रशिक्षणार्थियों के साथ लूनकरणसर में विश्व एड्स दिवस के अवसर पर संवाद कार्यक्रम में बोलते हुए संस्थान के कार्यक्रम अधिकारी महेश उपाध्याय ने कहा कि एचआईवी एक प्रकार का संक्रमित विषाणु है। यह वायरस व्यक्ति के शरीर में जाकर उसके खून में मौजूद श्वेत रक्त कोशिकाओं यानी कि व्हाइट ब्लड सेल में मिल जाता है। श्वेत रक्त कोशिकाओं के माध्यम से यह वायरस व्यक्ति के डीएनए में चला जाता है। ऐसी स्थिति में आकर वायरस टूटने लगता है और व्हाइट ब्लड सेल्स पर आक्रमण शुरू कर देता है। धीरे-धीरे वायरस का आक्रमण शरीर से सभी श्वेत रक्त कोशिकाओं को खत्म कर देता है। श्वेत रक्त कोशिकाओं के कम होने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है।

संस्थान के कार्यक्रम सहायक उमाशंकर आचार्य ने कहा कि इसका बचाव ही इलाज है। इस रोग से ज्यादा इसकी जानकारी न होना खतरनाक है। कार्यक्रम में कार्यक्रम सहायक तलत रियाज ने गतिवियों के माध्यम से बताया कि समाज में लोग एड्स पीडि़तों के साथ भेदभाव का व्यवहार करते है। इसी कारण से एड्स रोगी मानसिक और शारीरिक दोनों ही रूप से कमजोर हो जाता है। इससे पूर्व एचआईवी एड्स क्या है, इसके लक्षण, बचाव के उपाय और इस रोग के बारे में प्रचलित भ्रांतियों के बारे में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से जानकारी दी गयी । इस कार्यक्रम में प्रशिक्षणार्थियों के अलावा अनुदेशिकाएं श्रीमती भंवरी देवी, प्रियंका, देवकी पुरी, मोहिनी प्रजापत, सरोज देवी, मीरा सोनी, अरूणा, गीता देवी आदि की सक्रिय उपस्थिति रही। कार्यक्रम के अंत में राजकीय प्राथमिक विद्यालय, पम्पिंग स्टेशन के प्रधानाध्यापक राजेन्द्र कुमार प्रजापत ने धन्यवाद ज्ञापित किया।