Uncategorized

स्काउटिंग के जन्मदाता लार्ड बेडेन पॉवेल की जयंती पर निकाली गई “ड्रग्स फ्री इंडिया रैली”

दी शहीदों को श्रद्धांजलि

बीकानेर। स्काउटिंग के जन्मदाता लार्ड बेडेन पॉवेल की 162 वीं जयंती के अवसर पर शुक्रवार को राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड के स्थानीय संघ, गंगाशहर द्वारा ‘ड्रग्स फ्री इंडिया’ रैली निकाली गई। रैली में 16 स्कूलों के लगभग 500 विद्यार्थियों ने सहभागिता की।

स्थानीय संघ, गंगाशहर के उप प्रधान गिरिराज खैरीवाल के अनुसार रैली को रिटायर्ड आई पी एस मदन गोपाल मेघवाल, राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड के बीकानेर मंडल के सहायक राज्य संगठन आयुक्त (स्काउट) दिलीप कुमार माथुर, सहायक राज्य संगठन आयुक्त (गाइड) श्रीमती संतोष निर्वाण, सी ओ (स्काउट) जसवंत सिंह राजपुरोहित, सी ओ (गाईड) ज्योति रानी महात्मा, स्थानीय संघ की एडीसी (गाइड) श्रीमती आशा शर्मा, प्रधान भवानीशंकर जोशी, सचिव प्रभुदयाल गहलोत व उप प्रधान गिरिराज खैरीवाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। आशीर्वाद भवन, गंगाशहर के आगे से शुरू हुई यह रैली उपनगरीय क्षेत्र गंगाशहर के विभिन्न क्षेत्रों से होते हुए स्थानीय संघ कार्यालय परिसर में संपन्न हुई।

यहां हाल ही में पुलवामा में शहीद हुए शहीदों की शहादत को स्मृत किया गया। इस अवसर पर प्रधान भवानीशंकर जोशी व उप प्रधान गिरिराज खैरीवाल सभी का आभार प्रकट करते हुए स्काउट गाइड की गतिविधियों के बारे में बताया। संघ के सचिव प्रभुदयाल गहलोत ने बताया कि इस अवसर पर श्री गोपेश्वर विद्यापीठ सैकेंडरी स्कूल, अमर ज्योति विद्या मंदिर, संत तुलछाराम महाराज पाठशाला, ही सौ रामपुरिया विद्या निकेतन सी सैकेंडरी स्कूल, श्री पूर्णेश्वर ज्ञान मंदिर, श्री सार्थक एकेडमी, अरूणोदय विद्या मंदिर, शांति बाल निकेतन, श्री जी आईकोन इंग्लिश स्कूल, शांति बाल निकेतन, जय गुरुकुल पब्लिक स्कूल, सेंट श्री खेतेश्वर एज्यूकेशन सोसाइटी, राजकीय चौपड़ा उ मा वि, राजकीय बोथरा बालिका उ मा वि, राजकीय करनाणी उ मा वि, राजकीय एलबीडी रघुनाथ सर कुंआ के स्काउटस व गाइडस ने सहभागिता की।

सीमाओं से परे हैं आचार्य तुलसी और लार्ड बेडेन पॉवेल का व्यक्तित्व

इससे पूर्व आचार्य तुलसी समाधि स्थल पर आयोजित व्यक्तित्व विकास संगोष्ठी को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित करते हुए सी ओ स्काउट जसवंत सिंह राजपुरोहित ने लार्ड बेडेन पॉवेल और आचार्य तुलसी द्वारा व्यक्तित्व विकास हेतु दिए गए संदेशों को विस्तार से समझाते हुए कहा कि दोनों ही महान विभूतियों ने अनुशासन, मैत्री, सहयोग, समन्वय, समाज सेवा, ईमानदारी इत्यादि गुणों को व्यक्तित्व विकास के लिए आवश्यक बताया। उन्होंने अनेक उद्धरण प्रस्तुत करते हुए दोनों महान विभूतियों के जीवन से प्रेरणा लेने की सीख दी। इस अवसर पर सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी मदनगोपाल मेघवाल मुख्य अतिथि के रूप उपस्थित थे। कैरियर कांउसलर डॉ चंद्रशेखर श्रीमाली ने इस अवसर पर शिक्षा, कौशल व कैरियर विषय पर संक्षिप्त उद्बोधन प्रस्तुत किया। स्थानीय संघ, गंगाशहर के उप प्रधान गिरिराज खैरीवाल ने विषय प्रवर्तन करते हुए अतिथियों का परिचय दिया। आचार्य तुलसी शांति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष जैन लूनकरण छाजेड़ ने स्वागत संबोधन दिया। शासनश्री मुनि मणिलाल जी की सन्निधि में आयोजित इस संगोष्ठी में राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड के बीकानेर मंडल के सहायक राज्य संगठन आयुक्त (स्काउट) दिलीप कुमार माथुर, सहायक राज्य संगठन आयुक्त (गाइड) श्रीमती संतोष निर्वाण, सी ओ (गाईड) ज्योति रानी महात्मा, स्थानीय संघ की एडीसी (गाइड) श्रीमती आशा शर्मा, प्रधान भवानीशंकर जोशी, सचिव प्रभुदयाल गहलोत, जतन संचेती, विनीत बोथरा इत्यादि उपस्थित थे। संघ के सचिव प्रभुदयाल गहलोत ने बताया कि इस अवसर पर श्री गोपेश्वर विद्यापीठ सैकेंडरी स्कूल, अमर ज्योति विद्या मंदिर, संत तुलछाराम महाराज पाठशाला, ही सौ रामपुरिया विद्या निकेतन सी सैकेंडरी स्कूल, श्री पूर्णेश्वर ज्ञान मंदिर, श्री सार्थक एकेडमी, अरूणोदय विद्या मंदिर, शांति बाल निकेतन, श्री जी आईकोन इंग्लिश स्कूल, शांति बाल निकेतन, जय गुरुकुल पब्लिक स्कूल, सेंट श्री खेतेश्वर एज्यूकेशन सोसाइटी, राजकीय चौपड़ा उ मा वि, राजकीय बोथरा बालिका उ मा वि, राजकीय करनाणी उ मा वि, राजकीय एलबीडी रघुनाथ सर कुंआ के स्काउटस व गाइडस ने सहभागिता की।
****************************

सेवा कलश के सहयोगियों को किया सम्मानित

केरल में छह महीने पहले आई प्राकृतिक आपदा से पीडि़तों की सहायता के लिए स्थानीय संघ गंगाशहर द्वारा स्थापित किए गए ‘सेवा कलश’ में सहयोग करने वाले विद्यालयों के प्रतिनिधियों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। गौरतलब है कि स्थानीय संघ, गंगाशहर द्वारा सेवा कलश के माध्यम से दस रुपए की यूनिट में एकत्रित एक लाख इक्कीस हजार रुपये की सहायता राशि माध्यमिक शिक्षा निदेशक नथमल डिडेल के माध्यम से प्रधानमंत्री राहत कोष में भेजी गई थी।