Bikaner Rajasthan Slider

हरियाणा स्टेट पैंशनर्ज समाज का राज्य महाअधिवेशन 30 जून को

पैंशनरों की मांगों को तुरन्त पूरा करे हरियाणा सरकार- निझावन

रोहतक(हर्षित सैनी)। हरियाणा स्टेट पैंशनर्ज समाज सम्बन्धित ऑल इंडिया स्टेट पैंशनर्ज फैडरेशन की कार्यकारिणी की बैठक प्रान्तीय प्रधान के.एल. निझावन की अध्यक्षता में आज मानसरोवर पार्क स्थित सीनियर सिटिजन क्लब भवन में सम्पन्न हुई।
कार्यकारिणी ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया है कि 30 जून रविवार को स्थानीय सुखपुरा चौंक स्थित डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन भवन पर पैंशनर्ज का राज्य महाअधिवेशन आयोजित किया जायेगा। इस अधिवेशन में ऑल इंडिया स्टेट पैंशनर्ज फैडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस.एस. दुबे मुख्य अतिथि होंगे तथा फैडरेशन के अतिरिक्त महासचिव पी.के. शर्मा तथा हरियाणा कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय महासचिव वीरेन्द्र सिंह धनखड़ विशिष्ट अतिथि होंगे। हरियाणा स्टेट पैंशनर्ज समाज के राज्य संरक्षक देवराज नांदल मुख्य वक्ता होंगे।

gyan vidhi PG college
अधिवेशन में हरियाणा पैंशनर्ज की लम्बित मांगों पर चर्चा होगी। विशेषकर पंजाब की तर्ज पर 65, 70 व 75 वर्ष की आयु उपरान्त 10, 15 व 20 प्रतिशत पैंशन बढ़ौतरी नियम बनवाना मुख्य मांग है जबकि हरियाणा सरकार 80 वर्ष उपरान्त 20 प्रतिशत बढ़ोतरी करती है, जो पैंशनर्ज के लिए जुमला सिद्ध हो रहा है। इसलिए हरियाणा पैंशनर्ज में भारी रोष है। संगठन को मजबूत करने के लिए नई कार्यकारिणी का गठन भी अधिवेशन में किया जायेगा।

OmExpress News
आज की बैठक में प्रान्तीय प्रधान के.एल. निझावन, प्रांतीय संरक्षक देवराज नांदल, प्रांतीय महासचिव प्रेम सिंह सैनी, प्रांतीय सचिव ईश्वर सिंह सैनी, प्रैस सचिव सोमनाथ बुद्धिराजा, कोषाध्यक्ष इन्द्रपाल भाटिया, उपप्रधान रामचन्द्र शर्मा, जिलाध्यक्ष देवी सिंह देशवाल, झज्जर जिला प्रधान राजबीर सिंह मान, तुही राम, राजेन्द्र शर्मा, ओ.पी. सहगल, छोटू राम, भले राम बूरा, जोरा सिंह आर्य, सूरजभान अलेवा, विजय कुमार, करतार सिंह नांदल, चन्द्रभान शर्मा, गुरदयाल, घीसा राम, शिव कुमार शर्मा, करतार सिंह सहारण, राजबीर हुड्डा, बनी सिंह नांदल, डॉ. सुरेश भोपान, कमला मलिक, राजबाला मलिक आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।

semuno institute bikaner
सभी वक्ताओं ने हरियाणा सरकार से मांग की है कि हरियाणा पैंशनर्ज की मांगों को शीघ्र बातचीत द्वारा माना जाये वरना 30 जून को पैंशनर्ज को मजबूरन आन्दोलन करने का फैसला लेना पड़ सकता है, जिसके लिए हरियाणा सरकार जिम्मेदार होगी।