Prime Minister Safety Insurance Scheme
Bikaner National Slider

रक्षाबंधन के अवसर पर बहिनों को मिलेगा दो लाख रूपये तक की सुरक्षा बीमा का तोहफा

Prime Minister Safety Insurance Scheme
रक्षाबंधन के अवसर पर बहिनों को मिलेगा दो लाख रूपये तक की सुरक्षा बीमा का तोहफा

बीकानेर । रक्षाबंधन के अवसर पर श्री मक्खन जोशी वेलफेयर सोसायटी द्वारा हजारों बहिनों को दो लाख तक रूपये की सुरक्षा बीमा का तोहफा दिया जाएगा। इससे पहले शहर के छह स्थानों पर 22 से 28 अगस्त तक शिविर आयोजित कर आवेदन पत्र भरवाए जाएंगे तथा 30 अगस्त को जस्सोलाई तलाई स्थित व्यास पार्क में आयोजित समारोह के दौरान लाभांवित बहिनों को बीमा पत्र सौंपे जाएंगे।

सोसायटी के सचिव तथा भाजपा महासंपर्क अभियान के प्रदेश डिजीटल प्रभारी अविनाश जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह के निर्देशानुसार रक्षाबंधन के अवसर पर ‘रक्षा बंधन सामाजिक सुरक्षा मिलन समारोह’ मनाया जाएगा। इसके तहत देश भर में लाखों बहिनों को ‘प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना’ से लाभांवित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि भाजपा नेतृत्व की मंशा के अनुरूप बीकानेर शहर में श्री मक्खन जोशी वेलफेयर सोसायटी द्वारा यह अभिनव पहल की जाएगी। सोसायटी द्वारा लगभग पांच हजार बहिनों को लाभांवित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है तथा इनकी बीमा पर होने वाला सम्पूर्ण व्यय सोसायटी द्वारा वहन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 30 अगस्त को आयोजित होने वाले ‘रक्षा बंधन सामाजिक सुरक्षा मिलन समारोह’ से पूर्व शहर के छह स्थानों पर शिविर आयोजित कर आवेदन पत्र भरवाए जाएंगे। प्रत्येक स्थान के लिए प्रभारी नियुक्त किया जाएगा।
अनेक संस्थाएं करेंगी सहयोग
अविनाश जोशी ने बताया कि श्री मक्खन जोशी वेलफेयर सोसायटी के नेतृत्व में होने वाले इस कार्यक्रम में शहर की पच्चीस अधिक संस्थाएं सहयोग करेंगी। इस संबंध में जस्सोलाई तलाई स्थित दीनदयाल उपाध्याय शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय में बैठक आयोजित की गई। बैठक में पैपा के समन्वयक गिरिराज खैरीवाल, शिक्षाविद् डॉ चंद्र शेखर श्रीमाली, रोटरी क्लब के रघुवीर झंवर एवं विकास आचार्य, खेल प्रशिक्षक रामेन्द्र हर्ष, युवा साहित्यकार संजय आचार्य ‘वरूण’, ग्रीन वे इंफोटेक के नवनीत पुरोहित, सेवन स्टार फाउंडेशन के बृजराज जोशी, राजेश ओझा आदि मौजूद रहे। बैठक के दौरान समारोह से पूर्व आयोजित होने वाले शिविरों के स्थान चिन्ह्ीकरण तथा प्रभारियों की निुयक्ति सहित विभिन्न बिंदुओं पर विचार विमर्श किया गया।