Bikaner Rajasthan Slider

बीकानेर सार समाचार : गुरूवार, 17 जनवरी 2019

‘महिलाओं के लिए पशुपालन में उद्यमिता विकास की संभावनाएं’ विषयक कार्यशाला सम्पन्न

OmExpress News / Bikaner / स्वामी केशवानंद राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के कृषि अनुसंधान केन्द्र में ‘महिलाओं के लिए पशुपालन में उद्यमिता विकास की संभावनाएं’ विषयक दो दिवसीय कार्यशाला गुरुवार को सम्पन्न हुई। Bikaner News

इस अवसर पर निदेशक (अनुसंधान) डाॅ. एस. एल. गोदारा ने कहा कि आज महिलाएं पशुपालन में जुटी हैं, लेकिन दूध अथवा अन्य उत्पादों की मार्केटिंग के क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका नगण्य है। इसके लिए ग्राम स्तर पर समूहों का गठन करते हुए इन महिलाओं को इस दिशा में प्रशिक्षित करना होगा। उपनिदेश कृषि (विस्तार) डाॅ. उदयभान ने कहा कि बीकानेर सहित पश्चिमी राजस्थान में पशुपालन की अपार संभावनाएं हैं। इसमें महिलाओं की भूमिका बढ़ जाए तो परिवार की आय बढ़ेगी और वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकेगा।

डाॅ. पी. एस. शेखावत ने कहा कि पशुपालन, कृषि की रीढ है। दोनों एक-दूसरे के पूरक है। यदि खेतीहर महिलाएं इस दिशा में नवाचार कर सकें तो इसके सुनहरे परिणाम आएंगे। प्रशिक्षण की मुख्य अन्वेषक डाॅ. चित्रा हैनरी ने बताया कि राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के तहत प्राप्त इस प्रोजेक्ट के तहत एक रिपोर्ट तैयार कर राज्य सरकार को प्रस्तुत करनी है। इस प्रोजेक्ट के तहत बीकानेर और उदयपुर के 540 गांवों में 10 हजार से अधिक लोगों का सर्वे किया गया है। इसी श्रृंखला में जिला स्तर पर दो तथा राज्य स्तर पर एक कार्यशाला प्रस्तावित है।

सहायक प्रभारी डाॅ सीमा त्यागी ने कहा कि यह प्रोजेक्ट पूर्णतया सर्वे बेस है। मार्च 2019 तक इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी। उन्होंने आरकेवीवाई के विभिन्न प्रोजेक्ट्स के बारे में बताया। सहप्रभारी डाॅ. यू. के. मील ने बताया कि दो दिवसीय कार्यशाला के दौरान सरकारी एवं गैर सरकारी विभागों एवं संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने विभिन्न विषयों पर प्रकाश डाला। सर्वे कार्य में अमित कुमार, देवेन्द्र पूनिया और सुभाष ने भागीदारी निभाई। Bikaner News

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री से मिले हर्ष, मिढ्ढा रहे साथ – Bikaner News

राजस्थान सार्वजनिक प्रन्यास मंडल के पूर्व सदस्य तथा यूआईटी के पूर्व न्यासी हीरालाल हर्ष ने गुरुवार को जयपुर में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डाॅ. रघु शर्मा से मुलाकात की।

इस दौरान पूर्व पार्षद अरविंद मिढ्ढा भी साथ रहे। हर्ष ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री से पीबीएम अस्पताल की विभिन्न व्यवस्थाओं के बारे में चर्चा की।

अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सों की स्थिति के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि संभाग का सबसे बड़ा अस्पताल होने तथा पंजाब एवं हरियाणा सीमा के नजदीक होने के कारण यहां मरीजों का अत्यधिक भार रहता है।

ऐसे में यहां सभी पद भरे जाएं, जिससे मरीजों को त्वरित लाभ मिल सके। उन्होंने श्री अशोक गहलोत के गत कार्यकाल में पीबीएम अस्पताल में जनभागीदारी योजना के तहत हुए विभिन्न कार्यों की जानकारी दी तथा जिला अस्पताल एवं गंगाशहर डिसपेंसरी की प्रमुख आवश्यकताओं के बारे में भी बताया।

जिला अस्पताल में भी विशेषज्ञ चिकित्सा लगाने की बात रखी। उन्होंने डाॅ. शर्मा को बीकानेर आने का न्यौता दिया।

इस अवसर पर हर्ष और मिढ्ढा ने सूत की माला पहनाकर डाॅ. शर्मा का स्वागत किया।

साहित्यकार व्यास ‘विनोद’ को मिलेगा शंभू-शेखर सकसेना लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

शंभू-शेखर सकसेना सामाजिक विकास संस्थान की ओर से वर्ष 2018 के लिए 9वें राज्य स्तरीय शंभू-शेखर सकसेना साहित्य एवं पत्रकारिता समारोह में साहित्य के क्षेत्र में लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड बीकानेर के प्रसिद्ध साहित्यकार भवानी शंकर व्यास ‘विनोद’ को प्रदान किया जाएगा। यह समारोह 27 जनवरी को सायं छह बजे टाउन हॉल, बीकानेर में आयोजित होगा।

संस्थान की सचिव रेणु सकसेना ने बताया कि साहित्य के क्षेत्र में दिए जाने वाले लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड स्वरूप बीकानेर के प्रसिद्ध साहित्यकार भवानी शंकर व्यास ‘विनोदÓ को चांदी का मैडल, प्रशस्ति पत्र, शॉल-श्रीफल प्रदान किया जाएगा।

हुनर की शक्ति से ही बेरोजगारी से मुक्ति मिल सकती है : अरोड़ा

जन शिक्षण संस्थान, बीकानेर कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा संचालित मेकअप प्रशिक्षण कार्यक्रम का रामपुरा स्थित गली नंबर 2 में समापन किया गया। महिला स्वरोजगार को बढ़ावा देने के उद्देश्य के साथ इस 75 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रशिक्षणर्थियों को मेकअप से संबंधित सभी जानकारियां दी गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व वार्ड पार्षद दीपक अरोड़ा ने प्रशिक्षणर्थियों का उत्साह बढ़ाते हुए कहा कि वे प्रशिक्षण के बाद स्वरोजगार के लिए स्वयं का ब्यूटी पार्लर शुरू कर सकती है।  Bikaner News

इस मौके पर बीकानेर प्रौढ़ शिक्षण समिति के व्यवस्था सचिव अविनाश भार्गव ने कहा कि हमारा देश विश्व में सबसे अधिक युवाशक्ति वाला देश है। इसी के साथ यह भी सत्य है कि हमारे देश में युवाओं के सामने सबसे बड़ी समस्या आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनने की है। बेरोजगारी के इस विकट दौर में युवाओं के सामने आत्मनिर्भरता प्राप्त करना बहुत मुश्किल हो रहा है। ऐसी स्थिति में युवाओं को मात्र सरकारी नौकरी पाने की ललक में नहीं रहकर अपना रूझान व्यावसायिक कौशल प्राप्त कर रोजगार और स्वरोजगार के माध्यम से आत्मनिर्भर बनने की ओर करना चाहिए। क्योंकि हुनर की शक्ति से ही बेरोजगारी से मुक्ति मिल सकती है।

इस अवसर पर जन शिक्षण संस्थान की अध्यक्ष डॉ. विभा बंसल ने कहा कि युवाशक्ति व्यावसायिक कौशल का महत्व समझें और अपनी रूचि का काम सीखें साथ ही दुसरे युवाओं को भी प्रेरित करें।

संस्थान के सहायक कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि संस्थान 2001 से आर्थिक, सामाजिक व शैक्षणिक दृष्टि से कमजोर एवं जरूरतमंद लोगों को उनकी रूचि एवं स्थानीय परिवेश की आवश्यकतानुसार व्यावसायिक कौशल का प्रशिक्षण देकर उन्हें स्वरोजगार के लिए प्रेरित कर रहा है। Bikaner News

संस्थान के उमाशंकर आचार्य ने कहा कि प्रशिक्षण केन्द्र 1 नवम्बर से शुरू किया गया था। 75 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में मेकअप संबंधी सभी जानकारियां पाठ्यक्रम के अनुसार प्रतिभागियों को दी गई। संस्थान के तलत रियाज ने कहा कि प्रशिक्षण में समय समय पर जीवन कौशल शिक्षा के बारे में जानकारी दी गई। जिससे इनका व्यक्तिगत विकास भी हो सके।

अनुदेशिका श्रीमती सूरजमुखी खडग़ावत ने प्रशिक्षण का प्रतिवेदन प्रस्तुत कर सभी प्रशिक्षणार्थियों को भविष्य में इस कार्य में और अधिक गति देने के लिए प्रोत्साहित किया। इस अवसर पर वर्षा लूणा, रेखा नायक, सुष्मिता, रजिया, लक्ष्मी, अशोका, संजना गिरी, निधि खडग़ावत, साक्षी आदि ने अपने हुनर को भविष्य में आजीविका बनाने की बात कही। इससे पूर्व कार्यक्रम के प्रारंभ में मां सरस्वती की पूजा अर्चना की गई। कार्यक्रम में अंत में सभी आगन्तुकों का आभार अनुदेशिका सूरजमुखी खडग़ावत ने प्रकट किया।

जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम ने कहा कि शहर में यातायात व्यवस्था में गुणात्मक सुधार लाया जाएगा इस दिशा में प्रथम चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तहत प्रशासन व पुलिस तीन स्थानों पर यातायात व्यवस्था में परिवर्तन करते हुए व्यवस्थित करेगा। जिससे आमजन सुगमता से आवागमन कर सके।

गुरूवार को जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम व पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा ने कोटगेट थाना में पुलिस अधिकारियों के साथ विस्तृत चर्चा की तथा स्टेशन रोड़ व सूचना जनसम्पर्क कार्यालय (डाक बंगला) के पीछे के रास्ते की सड़क का निर्माण सहित अन्य सुविधाएं विकसित करने के लिए भ्रमण कर मौका मुआयना किया। गौतम ने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तहत जूनागढ़ के आसपास तथा कलेक्ट्रेट परिसर, रेलवे स्टेशन के आस-पास की ट्रेफिक व्यवस्था को ठीक किया जाएगा।

जिला कलक्टर ने कहा कि कलैक्ट्रेट परिसर तथा उसके आस-पास की सड़कों पर यातायात के ऐसे प्रबंध किए जाएं कि आमजन की वाहन पार्किंग सुगमता से हो सके साथ ही आने-जाने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी भी न हो। इसी तरह जूनागढ़ के चारों ओर यातायात की व्यवस्था सुचारू करने के लिए सड़क आदि की मरम्मत के साथ-साथ सड़क के बीच में आने वाले व्यवधान को हटाया जाएगा। इसी तरह रेलवे स्टेशन से कोटगेट तक भी यातायात में नई व्यवस्था करते हुए गुणात्मक सुधार लाने का प्रयास किया जाएगा।

नहीं की जाए अनावश्यक तोड़-फोड़

जनसम्पर्क कार्यालय (डाक बंगला) के पीछे बनने वाली सड़क को दुरूस्त कराने के दौरान कार्यकारी एजेंसी तथा पुलिस अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि अनावश्यक रूप से किसी तरह की तोड़-फोड़ नहीं हो जिससे सड़क निर्माण में किसी तरह की बाधा उत्पन्न न हो।

बीकानेर मंडल के डीआरएम अनिल कुमार दूबे से की मुलाकात

जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम ने गुरूवार को उत्तर-पश्चिम रेलवे के बीकानेर मंडल के डीआरएम अनिल कुमार दूबे से मुलाकात की।
जिला कलक्टर ने जिला मुख्यालय पर स्थित रेलवे फाटक की समस्या के समाधान के बारे में बातचीत की। बातचीत में उन्होंने डीआरएम को बताया कि बार-बार रेलवे फाटक बंद हो जाने से शहर का यातायात बाधित होता है साथ ही रेलवे से जुड़ी अन्य विषयों पर भी विस्तृत चर्चा की।

कंपकंपाती ठंड में जिला कलक्टर ने शहर में घूमकर लिया सफाई व्यवस्था का जायजा – Bikaner News

दस डिग्री तापमान में कंपकंपाती ठंड के बीच जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने गुरूवार अलसुबह शहर में 5 किलोमीटर पैदल चलकर देखी साफ-सफाई व्यवस्था, वहीं शहर में ड्रेनेज सिस्टम, सड़कों की स्थिति का भी धरातल स्तर पर जायजा लिया। Bikaner News

शहर की गलियों में घूमकर व्यवस्थाओं का जायजा लेते जिला कलक्टर को एक बार तो लोगों ने पहचाना ही नहीं पर जैसे ही लोगों को जिला कलक्टर के भ्रमण का पता चला वे उन्हें अपनी समस्याओं से अवगत करवाने लगे। जिला कलक्टर ने विभिन्न स्थानों पर सार्वजनिक जल व्यवस्था में व्यर्थ बह रहा पानी देखा, तो ओवरलोडेड वाहन से भी रूबरू हुए। कहीं, सफाईकर्मी अलाव जलाकर तापते दिखे।

इन सबके बीच में सर्दी में घर से बाहर स्कूल ड्रेस में खड़े बच्चों से स्कूल लगने का समय जाना तो वहीं शहर के अंदरूनी भाग में सरकारी भूमि पर चल रही अवैध डेयरी को भी हटाने के लिए डेयरी संचालक से की समझाईश।

जिला कलक्टर का ध्यान पानी की कुण्डी में तैर रहे मच्छरों पर भी था तो वे निरीक्षण के दौरान प्रतिबन्धित पॉलीथीन का उपयोग न करने की समझाईश करते भी नजर आए। जिला कलक्टर का यह औचक निरीक्षण सुबह 6ः45 कोटगेट से प्रारंभ हुआ जो 9 बजे तक मुख्य डाकघर पहुंच कर थमा। इस दौरान आयुक्त नगर निगम प्रदीप के गवांडे भी साथ थे।

जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम गुरूवार सुबह कोटगेट क्षेत्र से साफ-सफाई का निरीक्षण करते हुए दाउजी मंदिर पहंुचे, जहां उन्होंने देखा कि जगह-जगह गंदगी का ढेर लगा है और कई स्थानों पर जमा प्लास्टिक में आग लगी हुई है। उन्होंने तुरंत रूककर सफाईकर्मी को बुलाया और आग लगाए जाने का कारण पूछा। सफाईकर्मी जिला कलक्टर के सवाल का कोई जवाब नहीं दे सका, दूर से गुजर रहे एक अन्य सफाईकर्मी की ओर ईशारा किया।

इस पर आयुक्त नगर निगम ने सम्बंधित कर्मचारी को आवाज लगाकर पूरे मामले की जानकारी लेनी चाही। कुछ देर तो सफाईकर्मी माजरा ही नहीं समझ पाए। पता चलने पर दोनों ने ही कचरे के ढेर में आग लगाने के लिए आस-पास के लोगों को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया। इस पर जिला कलक्टर ने आसपास खडे़ लोगों को इस तरह की कार्यवाही नहीं करने की समझाइश की तथा सफाईकर्मियों को भी इस तरह की गतिविधियों को रोकने के लिए पाबंद किया।

तेज सर्दी में पैदल चलते-चलते जिला कलक्टर को मोहल्ला चूनगरान के पास ही एक पतली गली में बिल्कुल टूटी-फूटी सड़क दिखाई दी। आस-पास के लोगों से उन्होंने इसकी जानकारी ली तो पता चला कि पिछले चार महीने से इस गली की सड़क ऐसी ही टूटी हुई है। थोड़ा और चलने पर कुछ बंद मकानों की चारदीवारी में भी कचरा भरा दिखाई दिया। सफाईकर्मी ने बताया कि इन मकानों में कचरा आस-पास के लोग ही डालते हैं। बिनाणी चौक में जिला कलक्टर ने देखा कि सार्वजनिक जल व्यवस्था से व्यर्थ पानी बह रहा है और इससे सड़क पर भी कीचड़ हो रहा है।

उन्होंने आयुक्त नगर निगम को निर्देश दिए कि जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी अभियंताओं से बात कर शहर में सभी सार्वजनिक जल व्यवस्था की टोंटी आदि को ठीक करने का अभियान चलाकर शीघ्र ही सभी जगह नल ठीक किए जाए,ं तथा जहां जरूरत हो वहां बदली जाए। जिला कलक्टर ने शहर में खाली पड़े प्लॉटों में कचरा फैला दिखने पर नगर निगम आयुक्त को इन प्लॉटों के मकान मालिकों को चारदीवारी निर्माण के लिए करें पाबंद करने के निर्देश दिए।

साफ-सफाई देखने का यह क्रम शहर के ऐतिहासिक दम्माणी चौक में पहुंचा, जहां ऐतिहासिक छतरी के पाटे को देखकर निहारा। लेकिन दूसरी तरफ कलक्टर को बड़ी संख्या में आवारा पशु भी खड़े दिखे। पास ही बनी पानी की कुंडी में मच्छर और गंदगी को देखकर कुमारपाल हतप्रभ रह गए। जिला कलक्टर निरीक्षण कर ही रहे थे कि आस-पास के निवासियों ने जिला कलक्टर को पहचान लिया और चौक में पशुओं की समस्या के बारे में बताने लगे।

गौतम ने कहा कि आवारा पशुओं की समस्या का निदान शीघ्र ही किया जाएगा। साथ ही मौहेल्ले के निवासी यह तय कर बता दें कि पानी की कुण्डी बनी है और पास में जो टूटी-फूटी चौकी है इसका क्या उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि सर्वसम्मति से अगर वाचनालय बनाने का प्रस्ताव लाया जाए तो प्रशासन इस पर विचार कर यहां एक अच्छे वाचनालय का निर्माण करवा सकता है, जिससे यहां पानी में इकट्ठे होने वाले मच्छरों से भी निजात मिल सकेगी।

बच्चियों से बात कर जाना स्कूल का समय

निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर ने शहर की अंदरूनी गलियों में कुछ छोटे बच्चे-बच्चियों को स्कूल गणवेश में देखा। उन्होंने बच्चों से बातचीत करते हुए स्कूल का नाम जाना और स्कूल खुलने का समय पूछा। जस्सोलाई में घर के बाहर स्थित सरकारी भूमि पर अतिक्रमण कर डेयरी का संचालन कर रहे युवक को बुलाकर जिला कलक्टर ने अतिक्रमण हटाने की समझाईश की। उन्होंने कहा कि यदि डेयरी नहीं हटाई गई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सड़क तोड़ने के पैसे होंगे वसूल

जिला कलक्टर जस्सोलाई से आगे गोपीनाथ भवन की तरफ बढे़ जहां उन्हें सड़क का एक बड़ा हिस्सा टूटा हुआ दिखाई दिया। मकान में बैठे व्यक्ति को आयुक्त नगर निगम ने बुलाकर पूछा कि यह सड़क किसने तोड़ी है। मकान मालिक ने बताया कि सीवरेज कनेक्शन के लिए सड़क उसके द्वारा तोड़ी गयी है। जिला कलक्टर ने आयुक्त को निर्देश दिए कि जितनी सड़क इन्होंने तोड़ी है उसे ठीक करवाने में जितना पैसा नियमानुसार होता है वह वसूल किया जाए अथवा मालिक उन्हीं मानदण्डों में टूटी हुई सड़क को ठीक कर दे जिस तरह से निगम, न्यास अथवा सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा ठीक की जाती है।

अगर गुणवत्तापूर्वक सड़क का पेचवर्क नहीं होता है तो सड़क ठीक करवाने के पैसे वसूल कर निगम द्वारा सड़क को ठीक करवाया जाए तथा मकान मालिक के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करवायी जाए।

पॉलिथीन की थैली को डाला कचरा पात्र में

निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर कुमारपाल गौतम ने बीके स्कूल तिराहे पर देखा कि पास ही में संचालित नमकीन की दुकान के मालिक ने एक बड़ी थैली में सब्जी का बचा हुआ कचरा व दुकान का अपशिष्ट एक बड़ी सी प्लास्टिक की थैली में भरकर सड़क पर फंेक दिया। गौतम ने थैली को उठाया और कचरा पात्र तलाशा। इस बीच इस सारी कार्रवाई को दुकान मालिक तथा आस-पास खड़े लोगों ने देख लिया। इस दौरान एक व्यक्ति ने बताया कि कचरे से भरी प्लास्टिक की थैली को उठाकर कचरा पात्र तक ले जाने वाला व्यक्ति कोई और नहीं जिला कलक्टर है।

इतना सुनते ही दुकानदार अपनी दुकान से भाग कर दूर खड़ा हो गया। जिला कलक्टर ने जब तक कचरा पात्र में थैली को डाला तब तक आस-पास खड़े लोगों ने दुकानदार को कलक्टर के समक्ष पेश कर दिया। गौतम ने नसीहत दी कि भविष्य में इस तरह से प्लास्टिक की थैली में कचरा डालकर सड़क पर नहीं फेेंक और कचरा पात्र का इस्तेमाल करें।

ओवरलोड वाहनों से हुए रूबरू

कोटगेट के पास से पैदल चलकर साफ-सफाई करने के निरीक्षण का यह सिलसिला जब सैटेलाइट अस्पताल तक पहुंचा तो वहां पर जिला कलक्टर को चारे से भरे ओवरलोड वाहन व उंट गाड़े दिखे। दो-तीन बार तो जिला कलक्टर व आयुक्त नगर निगम का सड़क पर चलना दुश्वार हो रहा था। जिला कलक्टर ने सड़क के किनारे किसान धर्मकांटा के संचालक से जाकर बात की और समझाईश करते हुए कहा कि वाहनों को बेतरतीब सड़क पर खड़ा न होने दें। अगर सड़क पर इस तरह यातायात बाधित रहा तो संचालक के विरूद्ध कार्रवाई अमल में लायी जाएगी। जिला कलक्टर ने वहां खडे़ उंट गाड़ों के मालिक से चारे के भाव भी जाने।

यह किसी की भी बीट नहीं है

साफ-सफाई देखते-देखते जब जिला कलक्टर सैटेलाइट अस्पताल के पास मुख्य सड़क से गुजर रहे थे तो देखा कि पास में कुछ सफाईकर्मी खड़े बतिया रहे हैं तो उन्होंने पूछा साफ-सफाई नहीं कर रहे हो। इसी दौरान उनकी नजर मुख्य सड़क से जुड़ी एक गली में जमे कचरे पर गई, इस पर जिला कलक्टर ने पूछा कि यहां इतनी गंदगी है इधर साफ-सफाई कौन करता है? मौके पर खड़े सफाईकर्मियों ने बहुत ही सहजता से कहा कि यह गली किसी की भी बीट नहीं है।

सफाईकर्मी ताप रहे थे अलाव

5 किलोमीटर तक के इस सफाई निरीक्षण के दौरान जिला कलक्टर को करीब 7 स्थानों पर तो सफाईकर्मी एक-साथ बैठे अलाव तापते दिखायी दिए। सभी स्थानों पर जिला कलक्टर और आयुक्त नगर निगम द्वारा जब कहा गया कि सफाई न करके अलाव क्यों ताप रहे हो। कुछ सफाईकर्मी जो जिला कलक्टर को नहीं पहचान पाए वे तो संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए और जब समझ में आया कि जिला कलक्टर और आयुक्त निरीक्षण पर है तो बिना कोई जवाब दिए झाडू उठाकर सफाई में जुट गए।

नगर निगम भंडार का निरीक्षण किया

जिला कलक्टर ने चौखंूटी ओवरब्रिज के नीचे स्थित नगर निगम भंडार का निरीक्षण किया। भंडार में जमा कबाड़ पर नाराजगी जताते हुए जिला कलक्टर ने आयुक्त को इकठ्ठा कबाड़ का निस्तारण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कबाड़ को समय पर निस्तारित किया जाए ताकि राजस्व प्राप्त हो सके।