Bikaner Rajasthan Slider

राष्ट्र की सुरक्षा के लिये खतरा बन सकता है बीकानेर का शोलापुर सिंडिकेट

ओम एक्सप्रेस न्यूज़ रिपोर्टर बीकानेर। क्रिकेट सट्टा और हवाला कारोबार का अंतरर्राष्ट्रीय हॅब बन बीकानेर के दो नंबरी कारोबार जगत में ‘शोलापुर सिंडिकेट’तेजी से उभर कर सामने आया है। सूत्रों के मुताबिक गंगाशहर के छंलाणी भाईयों द्वारा संचालित शोलापुर सिंडिकेट का नेटवर्क राजस्थान के प्रमुख शहरों समेत देश के अनेक महानगरों और सरहद पार देशों के अंतर्राष्ट्रीय गिरोह से जुड़ा हुआ है। चौंकाने वाली बात यह है कि अंतरर्राष्ट्रीय नेटवर्क से जुड़ा यह सिंंडिकेट राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये बड़ा खतरा बन सकता है।

mannat

पता चला है कि शुरूआती दौर में शोलापुर सिंडिकेट का नेटवर्क हवाला जगत से जुड़ा हुआ था लेकिन आईपीएल के पिछले सीजन में दो नंबरी कारोबार जगत के कुख्यात सिंडिकेट ने क्रिकेट सट्टेबाजी के अंतरर्राष्ट्रीय गिरोह से अपना लिंक जोड़ लिया। बीकानेर जैसे सीमावर्ती शहर से संचालित हो रहे इस अंतरर्राष्ट्रीय सिंडिकेट के नेटवर्क को अभी तक पुलिस और खुफिया ऐजेंसिया भी नहीं भेद पाई है,जबकि बीकानेर के अपराध जगत में इस सिंडिकेट का नाम लगातार सुर्खियों में रहा है। सूत्रों ने बताया है कि पुलिस और खुफिया ऐजेंसिया अगर बीकानेर के नामी बुकियों और हवाला कारोबारियों की कुण्डलियां खंगाले तो शोलापुर सिंडिकेट का लिंक पता चल सकता है।

क्योंकि अभी हाल में हुए क्रिकेट वल्र्डकप में ऑन लाईन क्रिकेट सट्टेबाजी की कमान शोलापुर सिंडिकेट के छंलाणी बंधूओं ने ही संभाल रखी थी और मैचों में करोड़ो रूपये की सौदेबाजी का लेन देन हवाला के जरिये कराया। हालांकि शोलापुर सिंडिकेट के लिंक अभी किक्रेट सट्टा और हवाला कारोबार से जुड़े है लेकिन इस सिंडिकेट से किसी गोल्ड स्मलिंग या आंतकवादी सिंडिकेट ने लिंक जोड़ लिया तो यह राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा बन सकता है। जानकारी में रहे कि भारत पर घात लगाये बैठे आंतकवादी गिरोह ऐसे ही सिंडिकेटों से लिंक जोडऩे के फिराक में रहते है।


डबल एसने भी जोड़ रखा है लिंक
क्रिकेट सट्टा जगत से जुड़े सूत्रों मुताबिक कुख्यात बुकी डबल एस ‘संतोष सुसवाणी’ने भी अपना लिंक शोलापुर नेटवर्क से जोड़ रखा है। सूत्रों ने यह भी बताया है कि आईपीएल के पिछले सीजन में बीकानेर के तत्कालीन आईजी डॉ.बीएल मीणा द्वारा क्रिकेट बुकियों के खिलाफ चलाये गये अभियान के दौरान शोलापुर सिडिंकेट का नाम सामने आया था लेकिन पुलिस की सख्ताई के चलते इस सिडिंकेट के संचालक छंलाणी बंधू बीकानेर से पलायन कर गये। लेकिन आईजी डॉ.बीएल मीणा के बीकानेर से तबादले के बाद छलांणी बंधूओं ने यहां अपना नेटवर्क मजबूत कर बड़े पैमाने पर क्रिकेट सट्टेबाजी और हवाला का कारोबार शुरू कर दिया है।

सूत्रों ने यह भी बताया है कि अगर बीकानेर पुलिस चाहे तो यहां शोलापुर सिडिंकेट समेत बीकानेर में क्रिकेट बुकियों के तमाम सिंडिकेटों का पर्दाफाश हो सकता है,क्योंकि जिला पुलिस में ऐसे कई अधिकारी और अफसर है जिन्हे बीकानेर के तमाम बुकियों और उनके ठिकानों के बारे में पुख्ता जानकारी है