National Rohtak Slider

डॉ. सुलक्षणा को किया सम्मानित

रोहतक(हर्षित सैनी)। बहलम्बे गाँव की बेटी और अजायब गांव की बहू प्रसिद्ध कवयित्री, शिक्षाविद एवं समाज सेविका डॉ. सुलक्षणा अहलावत को जयपुर में वीआ अवार्ड और रोहतक में सुमेर सिंह आर्य संस्थान ने गेस्ट ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया। 12 जनवरी को जयपुर के मैसूर महल में आयोजित कार्यक्रम में उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर वीआ अवार्ड 2019 से सम्मानित किया गया।

इस कार्यक्रम में जानी मानी अभिनेत्री डॉ. अदिति गोवित्रिकर मुख्य अतिथि और राजस्थान की मशहूर कालबेलिया डांसर पदम् श्री गुलाबो सपेरा विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहीं। डॉ. सुलक्षणा वीआ अवार्ड 2019 सामाजिक कार्यों के लिए प्रदान किया गया। वहीं 13 जनवरी को सुमेर सिंह आर्य संस्थान द्वारा रोहतक में आयोजित लोहड़ी मिलन समारोह एवं भारतीय प्रतिभा गौरव अवार्ड 2019 में गेस्ट ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया।

डॉ. सुलक्षणा अहलावत आज किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं, समाज में उनकी पहचान शिक्षाविद, कवयित्री एवं समाज सेविका के तौर पर है। डॉ. सुलक्षणा सामाजिक संस्था विलक्षणा एक सार्थक पहल समिति की संस्थापक एवं अध्यक्ष हैं। वो अपनी संस्था के माध्यम से समाज हित के कार्य करती रहती हैं।


वे शिक्षा, स्वास्थ्य और महिला सशक्तिकरण पर कार्य करती हैं। अपनी संस्था के माध्यम से स्वास्थ्य जांच एवं रक्तदान शिविर आयोजित करती हैं तथा महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मुफ्त में सिलाई प्रशिक्षण व ब्यूटीशियन प्रशिक्षण केंद्र संचालित कर रही हैं।
दूसरी तरफ वो अपनी सशक्त लेखनी के माध्यम से हमारे समाज की कुरीतियों को दूर करने का प्रयास करती हैं। अपनी कलम के माध्यम से वो सामाजिक बुराइयों पर कड़ा प्रहार करती हैं। सोशल मीडिया में उन्हें उनके बेबज लेखन के लिए जाना जाता है। अब तक अंतरराष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्तर पर 90 से ज्यादा पत्र पत्रिकाओं एवं अखबारों में उनकी रचनाएं निरंतर प्रकाशित होती रहती हैं। पत्रकारों से बात करते हुए डॉ. सुलक्षणा ने बताया कि यह सम्मान उनका नहीं पूरे क्षेत्र और सभी महिलाओं का है।

वो आम जनता की मदद से ही समाजहित कार्य करने का प्रयास करती हैं और यह प्रयास आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि हमें सब कुछ अपने समाज से मिलता है और हमारा भी दायित्व बनता है कि हम भी समाज को कुछ दें। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि जितना हम सभी से हो सके उतना हमें समाज हित में कार्य करना चाहिए।(PB)