Gujarat rain
National Slider

गुजरात में भारी बारिश से तबाही, 51 की मौत

Gujarat rain
गुजरात में भारी बारिश से तबाही, 51 की मौत

अहमदाबाद। बारिश का कहर देश के कई हिस्सों में मुसीबत बनता जा रहा है। मौसम प्रणाली में गहरे दबाव के कारण हुई भारी बारिश के चलते गुजरात में कम से कम 51 लोगों की मौत हो गई । सौराष्ट्र क्षेत्र में लगातार बारिश हुई, जिसके कारण गिर सोमनाथ, अमरेली, भावनगर, राजकोट और अहमदाबाद जिले बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं ।

एनडीआरएफ, वायु सेना एवं एसआरपी के दलों को बाढ़ में फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए राजकोट जिले के गोंडल तथा अमरेली जिले में तैनात किया गया है। बाढ़ के चलते कई गांवों का संपर्क कट गया है और बिजली आपूर्ति बुरी तरह से प्रभावित हो गई है ।

भारतीय तटरक्षक और वायु सेना ने एक जहाज एम वी कोस्टल प्राइड के चालक दल के 14 सदस्यों को बचाया है। यह जहाज उमरगांव के पास समुद्रतट में डूब गया । मूसलाधार बारिश की वजह से  कम से कम 45  लोगों की मौत हो गई है, जिनमें से 23 मौतें सबसे अधिक प्रभावित अमरेली जिले में हुई हैं । पांडे ने बताया कि पांच लोग भावनगर जिले में मरे है और दो व्यक्तियों की मौत राजकोट जिले में हुई है ।

सूरत के जिला कलेक्टर राजेन्द्र कुमार ने बताया कि सूरत शहर में बिजली का करंट लगने से दो लोगों की मौत हुई है। सूरत में 100 मिलीमीटर से अधिक बारिश दर्ज की गई । राज्य नियंत्रण कक्ष के आंकड़ों के अनुसार, अमरेली में लगभग 1,500 व्यक्ति, राजकोट में 4,121 और भावनगर में 100 लोगों को निचले इलाकों से हटा कर सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया है ।

दूसरी तरफ कश्मीर घाटी के अधिकतर हिस्सों में कल से ही बारिश होने के बीच झेलम नदी का जलस्तर दक्षिणी कश्मीर के संगम में आज तड़के खतरे के निशान को पार कर गया। मौसम विभाग ने क्षेत्र में अगले 48 घंटों में और बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया है वहीं कल देर रात अनंतनाग और पुलवामा जिलों में बाढ़ की चेतावनी जारी की गयी।

संगम में तड़के तीन बजे जलस्तर 25.30 फुट पर था जो खतरे के निशान से 2.30 फुट उपर है। अधिकारी ने बताया कि नदी का जलस्तर यहां राम मुंशीबाग में 17.10 फुट पर था जबकि खतरे का निशान 19 फुट है।

कल से हो रही भारी बारिश के कारण झेलम और उसकी सहायक नदियों के जलस्तर में तेजी से वृद्धि हुयी है। संभागीय आयुक्त असगर समून ने बताया कि प्रशासन स्थिति की समीक्षा करेगा और दक्षिणी कश्मीर में कुछ निचले इलाके जलमग्न हो गए हैं। दोनों जिलों में बाढ़ की आशंका वाले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी गयी है।