Bikaner Slider

चार दिवसीय यात्रा पर बीकानेर पहुंचे राज्यपाल

चार दिवसीय यात्रा पर बीकानेर पहुंचे राज्यपाल

बीकानेर । राज्यपाल श्री कल्याण सिंह बीकानेर की चार दिवसीय यात्रा पर बुधवार को बीकानेर पहुंचे। नाल हवाई अड्डा पहुंचने पर बीकानेर पश्चिम विधायक डॉ गोपाल कृष्ण जोशी, उपमहापौर अशोक आचार्य, संभागीय आयुक्त सुबीर कुमार, पुलिस महानिरीक्षक गिर्राज मीणा, जिला कलक्टर पूनम, पुलिस अधीक्षक अमनदीप सिंह कपूर, महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ चंद्रकला पाडिया, राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ बी.आर. छीपा तथा वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ ए.के. गहलोत ने उनकी अगवानी की।

गुरूवार को करेंगे महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय के द्वितीय दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता
श्री सिंह नाल हवाई अड्डा से सर्किट हाउस पहुंचे। यहां पहुंचने पर उन्हें ‘गार्ड ऑफ आनर’ दिया गया। श्री सिंह गुरूवार को दोपहर 12 बजे महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय परिसर में विश्वविद्यालय के द्वितीय दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता करेंगे तथा सायं 7 बजे महाराजा गंगासिंह विश्वविद्यालय के कुलपति निवास पर आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम में शिरकत करेंगे।
प्रत्येक वर्ष होगा दीक्षांत समारोह
सर्किट हाउस पहुंचने पर पत्राकारों से वार्ता करते हुए श्री सिंह ने कहा कि उच्च शिक्षा में और अधिक सुधार के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में प्रति वर्ष दीक्षांत समारोह आयोजित होंगे। उन्होंने कहा कि उनकी पहल पर जयपुर के राजस्थान विश्वविद्यालय में 1990 के बाद तथा जोधपुर विश्वविद्यालय में 13 वर्ष बाद दीक्षांत समारोह आयोजित किया गया है। उन्होंने कहा कि दिसम्बर माह में विभिन्न विश्वविद्यालयों में दीक्षांत समारोह आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को 2014 की समस्त डिग्रियां और मैडल तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं।
राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय स्टाफ की उपस्थिति जांच के लिए बायोमेट्रिक जांच पद्धति लागू की गई है। नई व्यवस्था के अनुसार उच्च शिक्षण संस्थानों में व्याख्याताओं और अन्य शैक्षणिक स्टाफ को पूरे समय संस्थानों में रूकना होगा तथा निर्धारित कालांशों के बाद उन्हें रिसर्च कार्य में सहयोग करना होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय परिसरों में विशेष स्वच्छता रखने तथा विद्यार्थियों के लिए भी कम से कम 75 प्रतिशत उपस्थिति की व्यवस्था लागू की गई है।
राज्य सरकार के कार्यकाल के दो वर्ष पूर्ण होने पर प्रभारी मंत्राी ने किया ‘जिला दर्शन पुस्तिका’ का विमोचन

वन, पर्यावरण एवं खान मंत्राी तथा जिला प्रभारी मंत्राी राजकुमार रिणवा ने बुधवार को सूचना केन्द्र में जिला प्रशासन और सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय की ओर से प्रकाशित पुस्तिका ’जिला दर्शन -2015’ का विमोचन किया।
इस अवसर पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि दो वर्षों में राज्य सरकार के प्रयासों से प्रदेश के साथ-साथ जिले का चहुंमुखी विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अपने दायित्व को पूर्ण गंभीरता के साथ निभाकर आमजन के भरोसे को मजबूत किया है। प्रभारी मंत्राी होने के नाते जिले की छोटी से छोटी समस्या के समाधान के लिए वे व्यक्तिगत रूचि लेकर समाधान का प्रयास कर रहे हैं।
इस अवसर पर पिछले दो वर्षों में राज्य सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए उन्होंने जिले में हुए कार्यों की विभागवार जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बीकानेर, प्रदेश का पहला पूर्ण ओडीएफ जिला बनने की ओर अग्रसर है। अब तक जिले में पौने तीन लाख से अधिक शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है। मनरेगा के तहत जिले में 1 लाख 96 हजार परिवारों को रोजगार दिया गया तथा 4 हजार से अधिक बीपीएल परिवारों के लिए आवास निर्माण करवाया गया। उन्होंने बताया कि लगभग 12 करोड़ रूपये की लागत से ट्रोमा सेंटर बनाया गया है, इससे मरीजों को और अध्कि बेहतर सुविधाएं मिल सकेंगी।
’न्याय आपके द्वार’ से आमजन को मिली राहत
रिणवा ने कहा कि वर्षों से लम्बित प्रकरणों का समाधान करने के लिए राज्य सरकार द्वारा अभिनव पहल करते हुए ग्राम पंचायत स्तर पर ’न्याय आपके द्वार’ अभियान चलाया गया। इस अभियान में जिले में 65 हजार से अधिक प्रकरणों का निस्तारण कर आमजन को राहत दी गई। ’सरकार आपके द्वार’ अभियान के तहत जिले में लगभग 35 हजार प्रकरणों को निस्तारित किया गया। उन्होंने बताया कि शहर में ट्रैफिक की समस्या के निजात के लिए चौखंूटी ओवरब्रिज चालू करवा दिया गया है तथा पूगल रोड ओवरब्रिज का निर्माण कार्य भी पूरा कर लिया गया है ।
रिणवा ने बताया कि जिले में सड़क, पेयजल आपूर्ति, विद्युत सम्बंधी छोटी से छोटी समस्या के समाधान के लिए सतत् प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य सरकार कीे मंशा है कि हर ढाणी-गांव तक 24 घंटे बिजली उपलब्ध हो, इसके लिए नवीकरणीय ऊर्जा को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिले को जिप्सम हब के रूप में विकसित करने के लिए राज्य सरकार विशेष प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि आमजन की समस्याओं के त्वरित समाधान के लिए जिला एवं उपखण्ड स्तर पर जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।
13 दिसम्बर से शुरू होगी ’भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना’
रिणवा ने बताया कि सरकार लोगों को गुणवत्तापरक इलाज उपलब्ध करवाने के लिए आरोग्य राजस्थान एवं भामाशाह स्वास्थ्य बीमा जैसी अभिनव योजनाएं प्रारम्भ कर रही है। जिले के लिए भी यह योजना स्वास्थ्य मानकों के उत्थान में अहम साबित होगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से प्रदेश में वन क्षेत्राफल में बढ़ोतरी हुई है। इस दिशा में किए जा रहे प्रयासों के क्रम में बीछवाल में ’मरूधरा बायोलॉजिकल पार्क’ विकसित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लूणकरणसर में जैतून तेल रिफाइनरी चालू की गई और किसानों को जैतून की खेती पर विशेष अनुदान भी दिया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि लोकदेवी-देवताओं और महापुरूषों के जीवन से आमजन को प्रेरित करने तथा ऐसे स्थानों को पर्यटन केन्द्रों के रूप में विकसित करने के उद्देश्य में प्रदेश के विभिन्न जिलों में स्मारकों का निर्माण किया जा रहा है। इसी क्रम में बीकानेर के देशनोक में भी श्रीकरणी माता स्मारक बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्राी श्रीमती राजे ने इसका शिलान्यास किया।
इस अवसर पर बीकानेर पश्चिम के विधायक डॉ. गोपाल जोशी, खाजूवाला विधायक डॉ. विश्वनाथ मेघवाल, जिला कलक्टर पूनम, अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) हरिप्रसाद पिपरालिया, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी बी एल मेहरड़ा सहित पत्रकार और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *