Bikaner Rajasthan Slider

ग्यारहवां कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर सम्पन्न

बीकानेर । मुक्ति संस्था बीकानेर के तत्वावधान में ग्यारहवां कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर सोमवार को स्थानीय ब्रह्म बगीचा में आयोजित किया गया। शिविर का उदघाटन मुख्य अतिथि राजस्थान सरकार के ऊर्जा, जल संसाधन एवं कला संस्कृति मंत्री डॉ बी डी कल्ला ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर विकास न्यास के पूर्व अध्यक्ष मकसूद अहमद ने की तथा कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि  सामाजिक कार्यकर्ता राजेश चूरा थे ।
प्रारंभ में स्वागत भाषण करते हुए मुक्ति संस्था के अध्यक्ष एडवोकेट हीरालाल हर्ष ने कहा कि गत दस वर्षों से लगातार आयोजित होने वाले शिविरों में लगभग पाँच हज़ार घुटना पीडि़तों को राहत मिली है ।


ग्यारहवें शिविर का उदघाटन करते हुए डॉ .बी.डी कल्ला ने कहा कि व्यक्ति के नयन और घुटने ठीक रहें तो आदमी की मानसिक हलचल ठीक रहती है,  उन्होंने कहा कि जरूरतों की सेवा भगवान की आराधना के समान है  जो व्यक्ति या संस्था सेवा भावना से पीडि़त की सेवा करते हैं उनसे  परमपिता परमेश्वर प्यार करता है । कल्ला ने कहा कि कुसुम देवी डागा की स्मृति को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए नि:शुल्क घुटना दर्द निवारण शिविर मील का पत्थर साबित हो रहा है उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार भी चिकित्सा सेवा को बहुत गंभीरता से लेते हुए  गरीबों के इलाज में  महत्वपूर्ण और उपयोगी काम कर रही है, कल्ला ने कहा कि नि:शुल्क दवा योजना की शुरुआत कांग्रेस सरकार द्वारा की गयी थी, उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में घुटना दर्द के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है जहां सैकडों मरीज परेशान हो रहे है ऐसे में मुक्ति संस्था एवं डागा परिवार  उल्लेखनीय कार्य कर रहे हैं ।

कल्ला ने भामाशाह महानुभावों से ऐसे नेक काम करने के लिए आग्रह किया ।  उन्होंने कहा कि कुसुम देवी डागा ने जीवन भर जरूरतमंद लोगों की सेवा की और अब उनके परिवार के लोग भी सेवा भावना से पीडि़त की सेवा करते हैं । इस अवसर पर मकसूद अहमद ने कहा कि बीकानेर की धरती सेवा भावना से जुड़ी हुई है यहां पर सेवा का स्थान सर्वोपरि है, मकसूद ने कहा कि कुसुम देवी डागा की स्मृति में हर वर्ष होने वाले शिविरों में हजारों लोगों को लाभ होता है इसके लिए मुक्ति संस्था की पूरी टीम समर्पित भाव से सेवा कार्यो को करते हैं ।

arham-english-academy
कार्यक्रम में राजेश चूरा ने कहा कि महा शिवरात्रि के दिन इस शिविर का आयोजन किया गया है जिससे इसका महत्व और बढ़ जाता है, चूरा ने कहा कि नेक काम करने के लिए स्वयं शिव प्रेरित करते हैं । उन्होंने कुसुम देवी डागा स्मृति घुटना दर्द निवारण शिविर के लिए हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं देते हुए मरीजों को जल्दी स्वस्थ होने की कामना की।
कार्यक्रम में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ.हेमन्त व्यास, डॉ.सुभाष भास्कर, डॉ.अमित पुरोहित, डॉ.भारती पुरोहित एवं डॉ.हिमानी पारीक को प्रथम कुसुम देवी डागा स्मृति सम्मान से डॉ कल्ला ने  समादृत किया । सम्मान स्वरूप उन्हें अभिनंदन पत्र, शाल, स्मृति चिन्ह एवं श्रीफल  भेंट किया ।

कार्यक्रम में विष्णु शर्मा, मांगीलाल भद्रवाल, बिन्दुप्रसाद रंगा को स्मृति चिन्ह भेंट किया गया । कार्यक्रम में समाज कल्याण विभाग के उप निदेशक एल डी पंवार, सखा संगम के अध्यक्ष एन. डी.रंगा, शिक्षाविद ओमप्रकाश सारस्वत, कवि-कथाकार राजाराम स्वर्णकार, जिला तैराकी संघ के चन्द्रशेखर जोशी, जनमेजय व्यास, हरीकिशन जोशी, मंगलचंद रंगा, बृजगोपाल जोशी, डॉ मोहम्मद  फारूक़, मोइनुद्दीन कोहरी, शिवकुमार थानवी, सत्यनारायण शर्मा, मांगीलाल भद्रवाल, मदनमोहन व्यास सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे कार्यक्रम में लगभग चार सौ घुटना पीडि़तों की जांच कर उन्हें निशुल्क नीबेल्ट उपलब्ध करवाये गये । अन्त में शिविर संयोजक एडवोकेट महेन्द्र जैन ने सभी के प्रति आभार स्वीकार किया ।