Bikaner Rajasthan Slider

राष्ट्रीय संगोष्ठी ‘साईंस एण्ड इंजीनियरिंग एजूकेशन-2019Ó का शुभारंभ

बीकानेर। राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय बीकानेर के भौतिकी विभाग द्वारा ‘टेक्यूप-3’ के तत्वावधान में ‘साईंस एण्ड इंजीनियरिंग एजूकेशनÓ विषयक दो दिवसीय संगोष्ठी का शुभारम्भ आज महाविद्यालय के ‘ट्रेनिंग एण्ड प्लेसमेन्ट सभागार में उद्घाटन समारोह हुआ। समारोह का शुभारंभ गेस्ट ऑफ ऑनर डॉ. एल.एम. कुकरेजा, डायरेक्टर, ए.पी. नॉलेज फाउण्डेशन, नेवी मुम्बई, चीफ गेस्ट डॉ. एच.पी. व्यास, पूर्व डायरेक्टर, डीआरडीओ एवं पूर्व प्राचार्य अभियांत्रिकी महाविद्यालय बीकानेर के आतिथ्य में माँ सरस्वती के माल्यार्पण व वंदना के साथ हुआ।

gyan vidhi PG college
संगोष्ठी के मीडिया प्रभारी सहायक आचार्य डॉ. महेन्द्र व्यास ने बताया कि प्रथम सत्र में की-नोट स्पीकर डॉ. वीर चंद राखेचा, पूर्व विभागाध्यक्ष, भौतिकी वर्ग, भाभा एटोमिक रिसर्च अनुसंधान केन्द्र, मुम्बई ने ‘साईंस विद न्यूट्रोन्सÓ विषयक स्पीच में विज्ञान में न्यूट्रोन्स की अहम् भूमिका के बारे में गहराई से चर्चा की।

सोलिड स्टेट फिजिक्स, भाभा एटोमिक रिसर्च अनुसंधान केन्द्र, मुम्बई के वैज्ञानिक डॉ. ए.के. निमल ने ‘सॉ सिगनल प्रोसेसिंग डिवाईसेज सेन्सर्स एण्ड ई-नोजÓ विषयक उद्बोधन में वर्तमान व भविष्य में सेन्सर्स से सम्बन्धित तकनीक के बारे में किये गये अपने शोध व सफल प्रयोग के बारे में विस्तृत चर्चा करते हुए मानव के संूघने व पहचानने की क्षमता पर बेस्ड मशीनीकृत ‘म.छवेमÓ की खोज के बारे में बताया।
संगोष्ठी की मुख्य समन्वयक डॉ. प्रीति नरूका ने संगोष्ठी में देषभर से आये वैज्ञानिकों, शोधार्थियों आदि का स्वागत किया और संगोष्ठी विषयक रूपरेखा प्रस्तुत की। प्रो. एच.पी. व्यास ने विद्यार्थियों को गुणात्मक व सार्थक अध्ययन करने का महत्व बताते हुए इसका अनुसरण करने की सलाह दी।

arham-english-academy

संगोष्ठी के द्वितीय सत्र में शोधार्थियों ने अपने-अपने शोधों का प्रजेन्टेशन दिया। इन्वाईटेड टॉक में बीकानेर मूल के प्रख्यात वैज्ञानिक डॉ. ललित मोहन कुकरेजा ने ‘शिक्षा के वास्तविक महत्वÓ पर चर्चा की। डॉ. कुकरेजा ने मौजूद वैज्ञानिकों, महाविद्यालय फेकल्टीज व विद्यार्थियों के शानदार प्रजेन्टेशन देखने के उपरांत शोधार्थियों से विचार विमर्श कर उनकी जिज्ञासाओं को दूर किया।

सत्र का संचालन डॉ. प्रवीण पुरोहित के द्वारा किया गया। उद्घाटन समारोह में देशभर से आये वैज्ञानिकों, शोधार्थियों, प्रवक्ताओं व विद्यार्थियों ने षिरकत की। अंत में सह-समन्वयक डॉ. शिवांगी बिस्सा ने आगन्तुक विशिष्ट अतिथियों व उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों का आभार प्रकट किया।