Jaipur Politics Rajasthan Slider

लोकसभा चुनाव 2019 : परिणाम के बाद की रणनीति बनाने में जुटीं पार्टियां

मंत्रिमंडल में हो सकता है बड़ा फेरबदल

OmExpress News / जयपुर / लोकसभा के लिए राजस्थान में 25 सीटों पर चुनाव के बाद अब पार्टियां व प्रत्याशी परिणाम का इंतजार कर रही है। साथ ही परिणाम के बाद की रणनीति बनाने में भी जुट गई है। हाल ही में महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि इस चुनाव में जिन लोगों ने अच्छा कार्य किया है उन लोगों को सम्मानित किया जायेगा। Lok Sabha Election 2019

वहीं, संगठन और सत्ता में बदलाव को लेकर अविनाश पांडे ने कहा कि सत्ता और संगठन में बेहतर समवन्य बैठाने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ एक बार फिर चर्चा होगी। जिन विधायकों ने और मंत्रियों ने अच्छी परफॉर्मेंस दी है उन्हें पदोन्नत किया जाएगा। साथ ही जिन मंत्रियों या विधायकों की भीतरघात की खबर पुष्ट होती है तो निश्चित तौर पर उन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। पर्यवेक्षकों और उम्मीदवारों से इस मामले में फीडबैक लेकर रिपोर्ट तैयार कर ली गई है।

प्रदेश सरकार के साथ एसोसिएट हुए निर्दलीय विधायकों का जिन सीटों पर पार्टी को सहयोग मिला है उन्हें सरकार में शामिल किया जा सकता है। राहुल गांधी को चुनाव के दौरान भी वॉर रूम से, फील्ड से फीडबैक दिया गया है।चुनाव के नतीजों को लेकर अविनाश पांडे ने कहा की सकारात्मक नतीजों की उम्मीद है। वहीं, अलवर थानागाजी घटना के मामले पर अविनाश पांडे ने कहा कि मामले को लेकर राज्य सरकार के साथ नितिन राउत ने भी पार्टी नेतृत्व को रिपोर्ट सौंपी है इस पर संवदेनशीलता के साथ फैसला लिया जायेगा।

महिला एवं बच्चों के विरुद्ध अपराधों पर सख्त कार्रवाई होगी : मुख्यमंत्री 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot)ने पुलिस प्रशासन को महिलाओं, बालकों एवं बालिकाओं के प्रति प्रताड़ना एवं जघन्य अपराधों में प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करने के सख्त निर्देश दिए हैं। इस संबंध में शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास पर हुई एक उच्च स्तरीय बैठक (High Level Meeting) में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। Lok Sabha Election 2019

श्री गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रदेशभर में थानों में तत्काल मुकदमा दर्ज करने और पीड़ित को त्वरित न्याय दिलाने की प्रक्रिया को सुदृढ़ बनाया जाए। उन्होंने इसके लिए अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोगों के विरूद्ध अपराधों के पर्यवेक्षण के लिए जिले में पदस्थापित नोडल अधिकारी उप अधीक्षक पुलिस (अजा-जजा) के समान ही महिला एवं बच्चों के विरूद्ध अपराधों के पर्यवेक्षण के लिए भी नोडल अधिकारी उप अधीक्षक पुलिस (महिला सुरक्षा) का पद सृजित करने के निर्देश दिए।

यह अधिकारी जिले में स्थित महिला थानों का भी पर्यवेक्षण करेगा, साथ ही सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग और महिला एवं बाल विकास विभाग में स्थानीय स्तर पर समन्वय स्थापित कर महिलाओं के प्रति हो रहे अत्याचार के मामलों में पीड़ित पक्ष को सहायता, मार्गदर्शन एवं सम्बल प्रदान करने का कार्य करेगा।

थाने में मना किया तो जिला स्तर पर दर्ज होगी एफआईआर

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि थानेदार द्वारा संबंधित थाने में एफआईआर दर्ज नहीं करने की फरियाद पुलिस अधीक्षक के पास पहुंचती है तो पुलिस अधीक्षक परिवाद पर जिला स्तर पर ही एफआईआर दर्ज करने की कार्यवाही करना सुनिश्चित करें एवं संबंधित थानेदार का उत्तरदायित्व निर्धारित करने की कार्यवाही भी करें। Lok Sabha Election 2019

केस ऑफिसर स्कीम के तहत मिलेगा न्याय

श्री गहलोत ने निर्देश दिए कि महिला एवं बच्चों के विरूद्ध जघन्य यौन अपराधों को केस ऑफिसर स्कीम में लेकर संबंधित प्रकरण में एक पुलिस अधिकारी को अधिकृत किया जाए, जो अभियोजन प्रक्रिया को तेज गति से सम्पन्न करवाकर पीड़ित को शीघ्र न्याय दिलवाए।
मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव डीबी गुप्ता एवंं महानिदेशक पुलिस कपिल गर्ग को इन निर्णयों को शीघ्र लागू करने के निर्देश दिए।

सीएम अशोक गहलोत ने की कई बड़ी घोषणाएं

दिल्ली से जयपुर पहुंचे सीएम अशोक गहलोत अलवर मामले को लेकर बेहद गंभीर दिखे। एयरपोर्ट पर पहुंचते ही सीएम अशोक गहलोत ने एडीजी क्राइम बीएल सोनी और प्रमुख सचिव को एयरपोर्ट पर बुलाया और 1 घंटे तक अहम बैठक की। बैठक में सीएम अशोक गहलोत ने कई अहम फैसले किए जिनमें अब महिलाओं पर होने वाले अत्याचार की जांच सीओ लेवल के अधिकारी करेंगे इसके लिए जल्द ही पोस्ट क्रिएट की जाएगी।

वहीं महिला अत्याचार पर एसपी ऑफिस में एफआईआर दर्ज होगी। अलवर के सामूहिक दुष्कर्म मामले को पुलिस ऑफिसर्स स्कीम के तहत लिया जाएगा। सीएम अशोक गहलोत के अहम फैसलों के साथ सीएम ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि अलवर का मामला बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है किसी को भी बक्शा नहीं जाएगा।

तीन महत्वपूर्ण फैसले- अलवर मामले की जांच अब पुलिस आफिसर्स स्कीम के तहत होगी। स्कीम के तहत पूरे मामले की मॉनिटिरिंग पुलिस की ओर से की जाएगी और मॉनिटिरिंग के आधार पर ही आरोपियों को सजा दिलवाई जाएगी। महिला अत्याचार के केसो की जांच अब सीओ लेवल का अधिकारी करेंगा।

आमतौर पर एससी एसटी के लेवल के लिए सीओ लेवल का नोडल ऑफिसर होता है उसी रूप में अब महिला अत्याचार पर सीओ लेवल का अधिकारी होगा। इसके लिए जल्द पोस्ट क्रियेट की जाएंगी। महिला अत्याचार के मामलो की एफआईआर अब थानों की बजाय एसपी ऑफिस में दर्ज होगी।

सीएम अशोक गहलोत ने अलवर मामले पर बोलेत हुए पूर्व सरकार पर भी निशाना साधा। सीएम ने कहा कि पिछले कुछ सालों से तीन चार जिलो में इस तरह की घटनाएं ज्यादा हुई है। ऐसे मामलों पर पिछली सरकार ने ध्यान नहीं दिया और पिछले सरकार के गृहमंत्री केस कम होने पर अधिकारियों को बढ़ाते गए। Lok Sabha Election 2019

gyan vidhi PG college

सीएम ने कहा कि मैंने पहले भी सीएम रहते ये आदेश दिए थे कि थानों में केसों की संख्या पर ध्यान नहीं दिया जाए। हो सकता है उनमें से 5 प्रतिशत गलत ..लेकिन थाने मे आने वालो की एफआईआर दर्ज हो। विराट मामले पर बोलेत हुए सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि आईएनएस विराट लेकर जो मजाक पीएम की उड़ी है, पीएम मोदी को पूरा देश और दुनिया देख रही है। उन्होंने अपने पद की गरिमा को घटाया है आजादी के बाद ऐसा पहली बार देखने को मिला है।

वसुधंरा की विदाई यात्रा पूरी हो चुकी है और वहीं नरेंद्र मोदी भी बौखला चुके है उनको ये देश पंसद नहीं कर रहा है। देश उनकी भाषा और उनकी शैली को लेकर बहुत गुस्से में है इसका नतीजा मोदी को भुगतना पड़ेगा। Lok Sabha Election 2019