BJP-Shiv-Sena
National Slider

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : बीजेपी- शिवसेना के बीच गठबंधन का ऐलान, सीट शेयरिंग पर फैसला जल्द

OmExpress News / नई दिल्ली / महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी-शिवसेना ने गठबंधन का ऐलान कर दिया है। हालांकि, कौन सी पार्टी कितने सीटों पर चुनाव लड़ेगी इसकी घोषणा अभी नहीं हुई है। पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि, सीट शेयरिंग के नए फॉर्मूले की घोषणा जल्द कर दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक शिवसेना 124 सीट और बीजेपी 146 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। 18 सीटें सहयोगी पार्टियों को दी जा सकती हैं। बता दें कि महाराष्ट्र में कुल 288 विधानसभा सीटें हैं। Maharashtra Assembly Election

सोमवार शाम को शिवसेना और बीजेपी की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि, पिछले पांच साल से राज्य का सफलतापूर्वक संचालन करने के बाद, महाराष्ट्र सरकार ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में महाराष्ट्र को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे। बयान में कहा गया है कि, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस केंद्रीय मंत्रियों रामदास अठावले और अन्य सहयोगी दल के नेताओं ने सोमवार को अगामी लोकसभा चुनाव एक साथ चुनाव लड़ने पर सहमति जताई है। Maharashtra Assembly Election

पत्र में महाराष्ट्र के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल और शिवसेना के नेता और राज्य सरकार के मंत्री सुभाष देसाई के हस्ताक्षर हैं। लेकिन इस पत्र में अभी सीटों के बंटवारे को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई है। बताया जा रहा है कि जल्द ही भाजपा-शिवसेना गठबंधन सीटों के बंटवारे कर देगा। वहीं, शिवसेना के वरिष्ठ नेता चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे संयुक्त बयान के जरिए सीट बंटवारे की घोषणा करेंगे। Maharashtra Assembly Election

मुंबई के वर्ली सीट से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे आदित्य

इससे पहले शिवसेना के नेता आदित्य ठाकरे ने एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए घोषणा की थी कि वह मुंबई के वर्ली सीट से विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। बता दें कि ये पहली बार होगा जब कोई ठाकरे परिवार का शख्स चुनावी मैदान में होगा। बता दें कि ऐसी खबरें सामने आ रही हैं कि शिवसेना इससे पहले आधी-आधी सीटों पर उम्मीदवार उतारने को लेकर अड़ी थी। पार्टी के कई नेता इसके बारे में बयान भी दे चुके थे। उनका फॉर्मूला था कि 135 सीटों पर बीजेपी और 135 सीटों पर शिवसेना अपने उम्मीदवार उतारे। वहीं बाकी 18 सीटें अन्य दलों को दी जाएं।