Ajmer Rajasthan Slider

पुष्कर में बराबर की टक्कर, हार जीत का अन्तर पांच हजार वोटो तक

पुष्कर। (अनिल सर) तीर्थ नगरी पुष्कर में कल मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हो जाने के बाद अब लोग अपने-अपने कयास लगाने लग गए हैं तथा बाजारों में अब चौपाले शुरू हो गई है इस बार दोनों उम्मीदवारों के बीच कांटे की टक्कर बताई गई है जानकारी के अनुसार कई सुरेश सिंह रावत का पलड़ा भारी तो कई नसीम अख्तर का पलड़ा भारी नजर आ रहा है कोई रावत को पुष्कर से 1000 से 1500 हजार कि बढ़त दिलवा रहे हैं तो कोई 300 से 500 के बीच में बढ़त दिलवाने की बात कर रहे हैं वही नसीम अख्तर का ग्रामीण इलाकों में पलड़ा भारी बताया जा रहा है इस बार ग्रामीण इलाकों में नसीम अख्तर का पलड़ा भारी होने से हार जीत का अंतर पांच हजार के बीच रहेगा दोनों में से कोई भी जीत सकता है हालांकि भाजपा और कांग्रेस दोनों ही अपनी अपनी जीत सुनिश्चित मांन रहे है यह तो अब 11 दिसम्बर को पता चल पाएगा ।

राज्य में बनेगी कांग्रेस की सरकार

कांग्रेस को 105 से 110 के बीच मिलेगी सीटें भाजपा को 80 से 85 तथा निर्दलीय 10 से 15 के बीच लाएंगे  तीर्थ नगरी पुष्कर में अब स्थानीय उम्मीदवार की जीत के साथ साथ राज्य में किसकी सरकार बनेगी उसकी भी अटकलें शुरू हो गई है वहीं कल हुए मतदान को देखते हुए तथा जनता के रुझान को देखते राज्य में कांग्रेस की सरकार बनते नजर आ रही है एग्जिट पोल ने भी राज्य में कांग्रेस की सरकार बनाने की दावे कर रही है कांग्रेस को जहां 105 से 110 सीटें मिलने का अनुमान लगाया जा रहे हैं तो वहीं भाजपा को 80 से 85 के बीच सीटें मिलने की उम्मीद है तथा निर्दलीय 10 से 15 तक से सिमट जाएंगे।

पुष्कर से जो जीता राज्य में उसकी नहीं बनेगी सरकार

तीर्थ नगरी पुष्कर में कल मतदान होने के बाद अब कई तरह की अटकलें लगना शुरू हो गया कई लोगों ने बताया कि अगर पुष्कर से जो उम्मीदवार जीतेगा इस बार राज्य में उसकी सरकार नहीं बनेगी अगर पुष्कर से भाजपा के सुरेश सिंह रावत जीतते हैं तो राज्य में कांग्रेस की सरकार बनेगी और अगर नसीम अख्तर पुष्कर से जीती है तो राज्य में भाजपा की सरकार बनेगी ।

गत दो चुनावों में पुष्कर से जीतने वाले उम्मीदवार की बन रही है सरकार

दो चुनावों में पुष्कर से जीतने वाले उम्मीदवार की राज्य में सरकार बन रही है यही नहीं पुष्कर से जीतने वाले दोनों उम्मीदवार राज्य में मंत्री पद का दर्जा भी हासिल किया और पुष्कर को राज्य सरकार में स्थान मिला है 2008 में नसीम अख्तर पुष्कर से जीती और शिक्षा राज्यमंत्री का पद हासिल किया तो वहीं 2013 में सुरेश सिंह रावत जीते और संसदीय सचिव बने इस बार देखते हैं कि पुष्कर से जीतने वाले उम्मीदवार की राज्य में सरकार बनती है या नहीं अगर राज्य में सरकार बनती है तो इस बार हैट्रिक बन जाएगी क्योंकि पुष्कर से जो भी उम्मीदवार जीतेगा और उसकी सरकार बनती है तो वह निश्चित ही मंत्री पद मिलेगा क्योंकि पूर्व में कांग्रेस की सरकार बनी तो नसीम अख्तर को मंत्री पद मिला तो वहीं भाजपा की सरकार बनने पर सुरेश सिंह रावत को संसदीय सचिव का पद मिला इस बार अगर नसीम अख्तर जीती ओर कांग्रेस की सरकार बनती तो राज्य में मंत्री पद हासिल मिलने की पूरी संभावना व्यक्त की है तो वही सुरेश सिंह रावत भी अगर जीते हैं और भाजपा की सरकार बनती है तो उन्हें भी मंत्री का पद मिल सकता है।

गत 30 वर्षों से लगातार दूसरी बार कोई भी नहीं बना पुष्कर से विधायक

तीर्थ नगरी पुष्कर में गत 30 वर्षों से कोई भी पार्टी का विधायक लगातार दूसरी बार नहीं जीता 1990 के बाद कोई भी पार्टी का उम्मीदवार लगातार दूसरा चुनाव नहीं जीते 1990 के बाद पुष्कर विधानसभा क्षेत्र से अलग अलग विधायक चुनकर जा रहे हैं इस बार भी देखना होगा यह परंपरा कायम होती है या भाजपा के सुरेश सिंह रावत इस परंपरा को तोड़ते हैं या नहीं और नसीम अख्तर अगर जीत जाती है तो यह परंपरा एक बार फिर कायम रहेगी हालांकि कांग्रेस के जरूर लगातार दो बार विधायक चुनकर गए थे 2003 में गोपाल बाहेती ओर 2008 में नसीम अख्तर लेकिन दोनों ही भाजपा के बागी खड़ा होने के कारण जीते थे इस बार दोनों के बीच सीधी टक्कर है और सीधी टक्कर में हमेशा ही भाजपा का पलड़ा भारी रहा है अब इस बार देखना होगा किसका पलड़ा भारी रहता है।

नगरी में पानी की किल्लत फिर शुरू

तीर्थ नगरी पुष्कर में अब वापस पीने के पानी की समस्या का लोगों को सामना करना पड़ रहा है तथा लोगों को पीने के पानी के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है कई इलाकों में मेला समाप्ति के बाद पानी नहीं आने से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तथा पीने के पानी के लिए मोहताज होना पड़ रहा है यही नहीं पुष्कर के बाजारों में लगी प्याऊओ में भी पानी नहीं होने से यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है पुष्कर में कई इलाकों में पानी नहीं आने से लोगों को पीने के पानी के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही है तथा महंगे दाम से पानी के टैंकर मंगवाने पड़ रहे हैं।

तीर्थ नगरी पुष्कर में लाल मुंह के बंदरों का जबरदस्त आंतक

तीर्थ नगरी पुष्कर में लाल मुंह के बंदरों का जबरदस्त आतंक होने से लोगों का जीना दुश्वार हो रखा है पुष्कर के मुख्य बाज़ारो सहित घाटों पर लाल मुंह के आंतक के चलते श्रदालुओ और स्थानीय लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है तथा कई बार राह चलते लोगों पर भी लाल मुंह के बन्दर हमला करके घायल कर रहे हैं स्थानीय लोगों ने नगर पालिका और जिला प्रशासन से लाल मुंह के बंदर को पकडऩे की मांग की है(PB)