Rohtak News 1 October
Haryana Rohtak Slider

रोहतक सार समाचार : मंगलवार, 1 अक्टूबर 2019

जेजेपी को बड़ी सफलता, कांग्रेस को दिया जबरदस्त झटका

OmExpress News / अनूप कुमार सैनी / रोहतक / विधानसभा चुनाव की घोषणा होते ही कांग्रेस को झटके पर झटके लग रहे हैं। मंगलवार को भी जननायक जनता पार्टी ने हरियाणा कांग्रेस को तगड़ा झटका दिया है। Rohtak News 1 October

कांग्रेस की सरकार में सहकारिता मंत्री रहे एवं दो बार विधायक रहे दादरी निवासी सतपाल सांगवान कांग्रेस के सैकड़ों पदाधिकारियों, पूर्व चेयरमैन, सरपंचों एवं पूर्व सरपंचों सहित मंगलवार को जननायक जनता पार्टी में शामिल हो गए। इसके साथ-साथ कांग्रेस के दिग्गज नेता, राज्यसभा के पूर्व सांसद एवं पूर्व विधायक ईश्वर सिंह भी अपने समर्थकों सहित कांग्रेस छोड़कर जेजेपी में शामिल हो गए। वहीं इस दौरान बवानीखेड़ा से बीजेपी नेता नरेश बवानी और पूर्व जिला पार्षद जगदीश मिताथल ने भी जेजेपी में शामिल होने की घोषणा की।

Thar Star Navratri

जजपा के वरिष्ठ जेजेपी नेता एवं पूर्व सांसद दुष्यंत चौटाला ने कांग्रेस के दोनों वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों एवं समर्थकों का आभार जताते हुए कहा कि पार्टी में उन्हें पूरा मान-सम्मान मिलेगा। उन्होंने कहा कि दोनों सीनियर नेताओं के आने से पार्टी को मजबूती मिली है। इस अवसर पर पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह, राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ. केसी बांगड़, संगठन सचिव राजेंद्र लितानी, पूर्व विधायक राजदीप फौगाट, जननायक सेवादल के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिनेश डागर समेत पार्टी के कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।

मूल रूप से कैथल जिले के निवासी ईश्वर सिंह 2008 से 2014 तक कांग्रेस से राज्यसभा सांसद रहे है। इस दौरान वे संसद में रेलवे, मानव संसाधन, SC/ST सलाहकार समितियों के सदस्य भी रहे। ईश्वर सिंह 2014 से 2017 तक नेशनल एससी कमीशन के सदस्य थे। वे सन 1977 से 1982 तक गुहला विधानसभा सीट से विधायक भी रहे। 1979 से 1982 तक ईश्वर सिंह हाउसिंग बोर्ड, हरियाणा में चैयरमैन थे। Rohtak News 1 October

वहीं वे हरियाणा एजुकेशन बोर्ड के भी चेयरमैन रहे हैं और 2002 से 2004 तक कांग्रेस पार्टी से कैथल जिले के जिलाध्यक्ष रहे। वहीं ईश्वर सिंह कई सामाजिक संस्थाओं से जुड़े हैं। वे MA, LLM की पढ़ाई करने के बाद अध्यापक रहे और फिर एमरजेंसी के दौर में राजनीति में आए। इनकी पुत्रवधु रेखा देवी ने गुहला में 2014 का चुनाव निर्दलीय लड़ा था।

वहीं दादरी सीट पर 1996 से सक्रिय पूर्व मंत्री सतपाल सांगवान पांच बार दादरी विधानसभा से चुनाव लड़े चुके हैं। उन्होंने 1996 में पहला चुनाव हविपा की टिकट से लड़ा और विधायक बने। 2009 में सांगवान चौधरी भजनलाल की हजका की टिकट पर जीते और कांग्रेस सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे। इसके साथ ही वे दादरी से ही 2000 में हविपा से और 2005 का चुनाव निर्दलीय लड़े और अच्छे वोट लिए। 2014 में भी कांग्रेस के दादरी से उम्मीदवार रहे। यानि कि सतपाल सांगवान के पास चौधरी भजनलाल और चौधरी बंसीलाल के साथ काम करने का अच्छा अनुभव है और अब वे चौधरी देवीलाल जी की पार्टी में शामिल हुए हैं।

 

जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जेजेपी संरक्षक डॉ. अजय चौटाला ने जिस पार्टी का जींद की पावन धरा से निर्माण किया था आज उस जननायक जनता पार्टी का कुनबा दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज जेजेपी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो भाजपा को प्रदेश से बाहर करके सत्ता परिवर्तन के लिए मजबूत विकल्प हैं।

 

पूर्व मंत्री सतपाल के साथ जिन्होंने कांग्रेस छोड़ी है, उनमें प्रमुख रूप से युवा हलकाध्यक्ष संदीप फौगाट, युवा जिला महासचिव जयंत वशिष्ठ, जिलायक्ष शहरी कांग्रेस सेवा दल मोहित मोठसरा, उपाध्यक्ष सेवादल संदीप भगत, सहसचिव सेवादल मनोज बजाज, जिलाध्यक्ष कांग्रेस सेवा दल संदीप बाढड़ा, जिला महामंत्री सेवादल कुलदीप सैनी, प्रधान स्वर्णकार संघ सुरेश सोनी, प्रधान खटीक समाज बलवंत सिंह, प्रधान पंजाबी सभा अनिल बल्ले, प्रधान अनाजमंडी रामकुमार रिटोलिया,

प्रधान हीराचौक मार्केट दीपक नागवान, कांग्रेस सेवादल संदीप फौगाट महामंत्री, डा. मनोज उपाध्यक्ष सेवादल ग्रामीण सांगवान, उपाध्यक्ष सेवादल शहरी जोगेंद्र अखत्यारपुरा, शहरी प्रधान प्रजापत समाज तेलूराम प्रजापत, सैन समाज प्रधान रवि पैंतावास, पूर्व चेयरमैन पंचायत समिति हरपाल नायक, पूर्व प्रधान स्वर्णकार संघ सुनील लांबा पूर्व चेयरमैन कापरेटिव रामहेर रानीला, ठेकेदार विजय तिवाला है।

इसी क्रम में सरपंच अनिल डोहका दीना, भूपेश, पूर्व पंचायत समिति सदस्य, सरपंच अजीत डोहका हरिया, सरपंच जयलाल डोहका मौजी, सरपंच लोकराम भागवी, सरपंच मनोज मानकावास, सरपंच आनंद पैंतावास खुर्द, सरपंच देवेंद्र सांगवान मिर्च, सरपंच नरेश कन्हेटी, सरपंच सतबीर सांतौर, सरपंच नरेंद्र डुडी फतेहगढ़, पूर्व चेयरमैन बीडीसी अजय सांगवान, पूर्व सरपंच विरेंद्र व सुरेन्द्र अखत्यारपुरा, पूर्व सरपंच बलवान डोहकी, पूर्व बीडीसी ओमप्रकाश छपार, पूर्व सरपंच महेंद्र रासीवास, पूर्व सरपंच लक्ष्मीनारायण नरसिंहवास, पूर्व सरपंच जगबीर पैंतावास, पूर्व सरपंच रणधीर साहुवास, पूर्व सरपंच ईश्वर घिकाड़ा,

पूर्व सरपंच कंवर सिंह नीमली, पूर्व चेयरमैन महेंद्र शर्मा डुडीवाला, पूर्व सरपंच राजेश सारंगपुर, पूर्व सरपंच सूबे सिंह डोहका मौजी, पूर्व सरपंच जयलाल डोहका मौजी, पूर्व सरपंच सतबीर डोहका हरिया, पूर्व सरपंच वेद व हरि सिंह बरसाना, पूर्व सरपंच सुरेंद्र बिरही कलां, पूर्व बीडीसी रणबीर बिरही, पूर्व सरपंच जगदीश व चन्द्र सिंह पांडवान, पूर्व बीडीसी अनिल बौंद, पूर्व बीडीसी प्रेमपाल बौंद, पूर्व सरपंच राजेश मालकोष, पूर्व सरपंच प्रकाश नीमड़ी, पूर्व सरपंच श्रीभगवान ऊण, पूर्व सरपंच कृष्णा समसपुर, पूर्व बीडीसी कुलदीप लोहरवाड़ा, पूर्व सरपंच अशोक लोहरवाड़ा, पूर्व सरपंच कलीराम झिंझर, पूर्व सरपंच अनिल यादव अचिना, पूर्व चेयरमैन अनिल बिगोवा,

पूर्व सरपंच रोहतास बास, पूर्व सरपंच समुंद्र बिगोवा, पूर्व सरपंच जितेंद्र भागवी, पूर्व सरपंच अशोक व अजीत रावलधी, पूर्व सरपंच कपूर सिंह कमोद, पूर्व सरपंच रोशन जयश्री, पूर्व सरपंच राजपाल यादव मिसरी, पूर्व सरपंच रोहतास सौंप, पूर्व सरपंच नत्थू पंवार हिंडोल, पूर्व चेयरमैन किरणपाल सांवड़, पूर्व बीडीसी बजरंग सांवड़, पूर्व सरपंच बरेश रानीला, पूर्व सरपंच जगदीश सांजरवास, पूर्व सरपंच रामफल सांकरोड़, पूर्व सरपंच पृथ्वी सिंह, रणकोली सरपंच राजबाला रावलधी, पूर्व सरपंच कुलबीर रावलधी, भोलू खातीवा, जिला सचिव कांग्रेस सेवा दल ने भी जेजेपी का दामन थामा।

कारगिल 1999 और 26/11 मुम्बई ताज के हीरो जेजेपी में शामिल

वहीं इस दौरान कारगिल 1999 और 26/11 मुम्बई ताज के हीरो कमांडो रामेश्वर श्योराण व कई अन्यों ने भी जेजेपी में शामिल होने की घोषणा की। जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने सभी का पार्टी में स्वागत करते हुए कहा कि पार्टी में उन्हें पूरा मान-सम्मान मिलेगा। Rohtak News 1 October

इस दौरान जेजेपी में शामिल होने वालों में जींद से विनोद बुरा नम्बरदार (एक्स आर्मी), हिसार भगत सिंह सेना के प्रभारी विक्रम सिंह जागलान, बीजेपी नेता विनोद मोहला, रोहतक से कांग्रेस नेता रविन्द्र मास्टर, सोनीपत से संदीप उर्फ टीनू पहलवान गांव माछरी बादशपुर, प्रधान सफीदों भगत सिंह सेना जोगा क्लोति, गुरुग्राम से रिंकू बजघेरा, झज्जर से टिंकू (भगत सिंह सेना), बहादुरगढ़ से मनीष राव (भगत सिंह सेना), रिंकू राणा बादशपुर बजगहेड़ा, गौरव मुरथल, गुरुग्राम से नीरज त्यागी गुरुग्राम, दिल्ली से जसवीर राणा बिजवासन (भगत सिंह सेना), हिमांशु राणा बजगहेड़ा आदि हैं।

कांग्रेस लिस्ट आने से पहले ही आनंद सिंह दांगी ने किया नामाकंन

हर्षित सैनी /  कांग्रेस की लिस्ट जारी होने से पहली ही मंगलवार को कांग्रेस के मौजूदा विधायक आनंद सिंह दांगी ने कांग्रेस की सीट पर महम से नामांकन भर दिया। दांगी ने कहा कि उन्हें टिकट मांगने की जरुरत नहीं है, मेरी टिकट फाइनल है। एक-आध को और टिकट दिलवानी होतो मुझे बता दो। उनका नामांकन करवाने के लिए पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा की पत्नी आशा हुड्डा पहुंची हुई थी।

दांगी का कहना था कि वे जीत के प्रति 1000 प्रतिशत आश्वस्त हैं। उनका मुकाबला किसी से नहीं है और मुकाबला तब होगा, जब कोई उम्मीदवार घोषित होगा। उन्होंने बताया कि भूपेंद्र सिंह हुड्डा, दीपेंद्र हुड्डा और प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा को आना था लेकिन वे सीडब्लूसी की बैठक के चलते नहीं आ पाए। उन्हें रात में नामाकंन करने के लिए संदेश जरुर आ गया था।

गौरतलब है कि आनंद सिंह दांगी 1991, 2005, 2009 और 2014 में महम विधानसभा सीट से विधायक रह चुके हैं। यह सीट उनके दबदबे की मानी जाती है। महम कांड में चौटाला परिवार के सामने वही चुनाव मैदान में उतरे थे। 2014 में मोदी लहर के बावजूद इस सीट पर उन्होंने जीत हासिल की थी। Rohtak News 1 October

हरियाणवी संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए आकाशवाणी रोहतक कर रही है सराहनीय प्रयास

आकाशवाणी रोहतक केंद्र की फोटो गैलरी में अपने समय के सुप्रसिद्ध सांगी एवं लोक कवि पं. सरूपचंद गांव जसौर खेड़ी जिला झज्जर की तस्वीर स्थापित की गई। केंद्र निदेशक डॉ. रंगा व सरूपचंद के सुपौत्र रामफल, राजेन्द्र द्वारा तस्वीर पर माल्यार्पण किया गया।

प्रसिद्ध लेखक एवं साहित्यकार डॉ. पूर्णचन्द शर्मा ने श्री सरूप चन्द की जीवनी पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि सरूपचन्द का जन्म सन 1884 में एक साधारण ब्राह्मण परिवार में हुआ। इनके पिता जी का नाम दौलतराम था। ये बचपन से ही कला प्रेमी थे। अपने चाचा गंगाराम से गुरुमंत्र लेकर यह सांग के क्षेत्र में उतरे।  Rohtak News 1 October

इन्होंने राजा हरिश्चंद्र, पद्मावत, गोपीचंद, महाभारत, शरणदे, उत्तानपाद, हीर रांझा, रतन सेन, जानी चोर एवं जमाल गबरु जैसे प्रसिद्ध सांगों की रचना की। 25 नवंबर 1927 में 43 वर्ष की आयु में यह स्वर्ग सिधार गए। इनके सांगों की गुणवत्ता को देखते हुए महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में जमाल गबरु हरियाणवी भाषा और साहित्य की पुस्तक सांगाष्टक में सम्मिलित किया गया।

उन्होंने बताया कि हरियाणा की कला एवं संस्कृति को आगे बढ़ाने के लिए ऐसे महान कवियों को प्रकाश में लाने के लिए आकाशवाणी रोहतक सराहनीय प्रयास कर रहा है। इस अवसर पर कार्यक्रम अधिशासी संजय बाली, वरिष्ठ उदघोषक संपूर्ण सिंह, प्राचार्य रामबीर सिंह, लोक गायक पाले राम दहिया, राकेश कुमार, जयबीर, सुनील व अशोक समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।