Rohtak Slider

रोहतक सार समाचार : बुधवार, 2 जनवरी 2019

जननायक जनता पार्टी द्वारा डॉ. के.सी. बांगड को राष्ट्रीय प्रधान महासचिव नियुक्त करने पर कार्यकर्त्ताओं में खुशी की लहर

OmExpress News / Rohtak / अनूप कुमार सैनी /  डॉ. के.सी. बांगड़ को जननायक जनता पार्टी का राष्ट्रीय प्रधान महासचिव व राजकुमार रिढाऊ को किसान प्रकोष्ठ का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त करने पर पार्टी कार्यकर्त्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई। स्थानीय बस स्टैंड स्थित पार्टी कार्यालय पर दर्जनों कार्यकर्त्ताओं ने लड्डू बांट कर अपनी खुशी का इजहार किया।  Rohatk News

इस अवसर पर सभी ने पार्टी सुप्रीमों अजय चौटाला, दुष्यंत चौटाला व इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला का आभार प्रकट करते हुए कहा कि इन नियुक्तियों से पार्टी संगठन मजबूत होगा।

जजपा नेता राजेश सैनी व एडवोकेट प्रदीप ने कहा कि पार्टी आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनावों में भारी बहुमत हासिल करेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा सरकार की कारगुजारियों से अच्छे से वाकिफ है तथा आने वाले चुनावों में अपने वोट की चोट से भाजपा को चलता करेगी। Rohatk News
इस अवसर पर मुख्य रूप से फूल राणा, संदीप खत्री, नरेंद्र, राजेश राठी, राजेश सैनी, राजीव सुनेजा, भगत सिंह आदि सहित दर्जनों कार्यकर्त्ता मौजूद रहे।

राष्ट्र व्यापी हड़ताल में प्रदेश में रोडवेज का रहेगा चक्का जाम : वीरेन्द्र सिंह धनखड़

हर्षित सैनी / रोडवेज तालमेल कमेटी के राज्य व्यापी पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत रोहतक डिपो में डिपो प्रधान सतबीर मुंढ़ाल, जोगेन्द्र बल्हारा, सुमेश व धर्मसिंह की संयुक्त अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक का संचालन जयकुंवार दहिया व मनीष शर्मा ने संयुक्त रूप से किया।

बैठक में तालमेल कमेटी के प्रदेश के नेता वीरेन्द्र सिंह धनखड़, दिनेश हुड्डा, कृष्ण सुहाग व सुमेर सिवाच ने संबोधित करते हुए केन्द्र व राज्य सरकार की कर्मचारी व जनवविरोधी नीतियों के बारे में कड़े प्रहार किए। उन्होंने हरियाणा सरकार पर आरोप लगाया कि राज्य सरकार पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए जनहित के विभागों पर लगातार तालाबंदी कर रही है।

उन्होंने बताया कि परिवहन, बिजली, पानी, शिक्षा व स्वास्थ्य और कृषि जैसे विभागों का आकार घटा कर निगम बनाने का प्रयास किया जा रहा है। आज हरियाणा प्रदेश में लगभग सवा लाख कर्मचारियों के स्वीकृत पद खाली पड़े हैं। जनवरी 2016 से देय मकान, किराया भत्ता व अन्य भत्ते लागू नहीं किए। पुरानी पैंशन व एक्सग्रेसिया नीति को बहाल नहीं किया और न ही न्यायालय से प्रभावित कर्मचारियों को अब तक पक्का किया गया।

कर्मचारी नेताओं ने कहा कि सभी विभागों में रिक्त पदो पर पदोन्नतियां नहीं की गई, जोकि सरकार के चुनावी घोषणा पत्र में मुख्य वायदे थे बल्कि सरकार के इसके विपरित परिवहन जैसे जनविभाग को किलो मीटर स्कीम के तहत अपने चहेतो को सौंपना चाहती है।

यहां यह गौरतलब है कि राज्य के परिवहन कर्मचारियों ने विगत में 18 दिन तक जनता एवं दूसरे विभाग के कर्मचारियों के सहयोग से सफल हड़ताल की थी परंतु सरकार इतने बडे आंदोलन को भी दरकिनार करते हुए हठधर्मिता पर अड़ी हुई और वर्तमान सरकार परिवहन विभाग के अस्तित्व को समाप्त करना चाहती है, जिसे रोडवेज का कर्मचारी जनता के समर्थन व जन संगठनों के सहयोग से सरकार के किसी भी मनसूबों को सफल नहीं होने देगा।

कर्मचारी नेताओं ने आह्वान किया कि 8-9 जनवरी को राष्ट्रव्यापी हड़ताल में हरियाणा प्रदेश के सभी कर्मचारियों के साथ रोडवेज का भी चक्का जाम रहेगा। बैठक में युद्धवीर दांगी, हिम्मत राणा, दीपक बल्हारा, कृष्ण सांघी, राजबीर मकडौली, प्रदीप, अजीत, उमेद घनघस, देवेन्द्र, सतपाल, प्रदीप धनखड़ व प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

अब कर्मचारियों को आंदोलन के अलावा कोई शेष रास्ता नहीं : राजबीर राठी

अनूप कुमार सैनी /  हरियाणा एजुकेशन मिनिस्ट्रीयल स्टाफ एसोसिएशन हेमसा संबंधित सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर आगामी 8-9 जनवरी राष्ट्रव्यापी हड़ताल की तैयारियों को लेकर स्थानीय लघु सचिवालय स्थित जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में जिला अध्यक्ष राजबीर राठी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय बैठक में सम्पन्न हुई। बैठक का संचालन सचिव मुकेश खरब द्वारा किया गया।

राज्य कमेटी सदस्य हितेंद्र सिहाग, अनिल सिंगला ने संयुक्त रूप से बताया कि पुरानी पेंशन, एक्सग्रेसिया, कैशलैश मैडिकल सुविधा, पंजाब के समान वेतनमान, खाली पदों पर स्थाई भर्तियां आदि मांगों को लागू करवाने के लिए शिक्षा विभाग मिनिस्ट्रीयल स्टाफ कर्मचारी भी राष्ट्रव्यापी हड़ताल में ताल ठोकेगा।

उन्होंने आरोप लगाया कि शिक्षा विभाग के सरकारी स्कूलों, खण्ड कार्यालयों व जिला मुख्यालयों पर काम करने वाले लिपिक वर्गीय कर्मचारियों की 28-30 साल नौकरी करने पर भी पदोन्नतियां नहीं की जा रही हैं। लिपिक वर्गीय कर्मचारियों को पदोन्नतियों के अभाव से उसी पद से सेवा निवृत मजबूरन होना पड़ रहा है। शिक्षा सदन पंचकूला में बैठे आला अधिकारियों का इस तरफ कोई ध्यान नहीं है। वेतनमान की बात हो पदोन्नति मिनिस्ट्रीयल स्टाफ कर्मचारी लगातार पिछड़ता जा रहा है।

उनका कहना था कि भाजपा सरकार भी अपने चुनावी वायदों को जुमला कहकर पीछे हट गई, अब कर्मचारियों को आंदोलन के अलावा कोई शेष रास्ता नहीं है। इस अवसर पर संदीप कुमार, श्याम सुंदर, अनिता, कविता, कमकांत, अजय कुमार, रेणुबाला, बाला देवी, शमशेर सिंह, सज्जन कुमार, रविंद्र सिंह, वीरेंद्र सिंह, सुरेश कुमार, मनोज कुमार सहित अनेक कर्मचारी उपस्थित थे।

अखिल भारतीय किसान सभा ने किसान व जनता विरोधी नीतियों पर आक्रोश जाहिर कर की भाजपा सरकार की घोर निंदा – Rohatk News

हर्षित सैनी / अखिल भारतीय किसान सभा जिला कमेटी रोहतक की मीटिंग जिला प्रधान प्रीत सिंह की अध्यक्षता में जसबीर स्मारक में हुई। राज्य कमेटी की तरफ से राज्य उपाध्यक्ष कामरेड इंद्रजीत सिंह ने हिस्सा लिया। बैठक में कृषि संकट पर चर्चा की गई। सरकार की किसान व जनता विरोधी नीतियों पर आक्रोश जाहिर करते हुए भाजपा सरकार की घोर निंदा की गई।

सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि आने वाली 8-9 जनवरी को देशव्यापी हड़ताल में किसान सभा सक्रिय रूप से हिस्सा लेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने अपने पांच साल के कार्यकाल में मेहनतकश विरोधी तथा पूंजीपति परस्त नीतियों को लागू किया है। समाज को धर्म जाति के नाम पर विभाजित किया है। Rohatk News

अखिल भारतीय किसान सभा के नेताओं ने कहा कि भ्रष्टाचार को कानूनी अमलीजामा पहनाया है। कानूनों में प्रतिगामी बदलाव करके संवैधानिक अधिकारों का हनन किया है। संवैधानिक संस्थाओं पर हमले हो रहे हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नाम पर किसानों की लूट हो रही है। फसलों को मंडियों में कम भाव पर लूटा जा रहा है।

उनका कहना था कि किसान कर्ज के दबाव में आत्महत्या करने को विवश हैं। किसान सभा देशव्यापी हड़ताल के माध्यम से फसलों के लाभकारी भाव देने, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार लागत से डेढ़ गुना पर सरकारी खरीद सुनिश्चित करने, सभी किसानों-मजदूरों की कर्जा मुक्ति करने, पशु मेलों का आयोजन करने, किसान -मजदूरों को कम से कम ₹5000 मासिक पेंशन देने आदि मांगों को जोर-शोर से उठाएगी।

किसान सभा ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि 8-9 जनवरी को होने जा रही आम हड़ताल में अवश्य शामिल हो ताकि सरकार को जनविरोधी नीतियां पलटने के लिए मजबूर किया जा सके।

सीटू के जिला सम्मेलन में होगा आर-पार के आंदोलन का ऐलान – Rohatk News

अनूप कुमार सैनी / सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के काम को आॅनलाईन करके खट्टर सरकार ने खोला मिस्त्री-मजदूरों की लूट का रास्ता 14 जनवरी को महम में भवन निर्माण कामगार यूनियन (सीटू) के जिला सम्मेलन में आर-पार के आंदोलन का ऐलान होगा।
उक्त बात यूनियन के रोहतक ब्लाॅक सम्मेलन में बोलते हुए जिला प्रधान रामभगत ने कही। सम्मेलन में संजीव सिह को ब्लाॅक प्रधान व नरेश शिमली को ब्लाॅक सचिव चुना गया।

स्थानीय सुखपूरा चैक स्थित प्रभात भवन में आयोजित रोहतक ब्लाॅक सम्मेलन की अध्यक्षता संजीव सिह व रामगोपाल ने संयुक्त रूप से की। सम्मेलन में बोलते हुए भवन निर्माण कामगार यूनियन (सीटू) जिला प्रधान रामभगत व जिला सचिव सतपाल ने कहा कि हरियाणा सरकार निर्माण मजदूरों के बोर्ड को खत्म करने की साजिस रच रही है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने ट्रेड यूनियनों को विश्वास में लिए बगैर बोर्ड के सभी कार्यो को ऑनलाईन करने का फरमान जारी करना एक तुगलकी फैसला हैं। जिसके माध्यम से निर्माण मजदूरों की यूनियनों को खत्म करके श्रम कल्याण बोर्ड को अपने हिसाब से चलाना चाहती हैं।

सीटू नेताओं ने कहा कि श्रम कल्याण बोर्ड में जमा 2900 करोड़ रुपए को निर्माण मजदूरों पर खर्च करने की बजाए राजनैतिक लाभ उठाना चाहती हैं। सरकार एक तरफ तो बोर्ड को ऑनलाईन कर रही हैं, दूसरी ओर सरकारी कर्मचारी भर्ती करने की बजाए श्रमिक मित्र लगाना चाहती हैं।

उन्होंने कहा कि जो श्रमिक से प्रति फार्म 50 रूपयें कमीशन के रूप में लेगा। जिससे बोर्ड में कमीशनखोरी को बढ़ावा मिलेगा। सरकार के इस तुगलकी फैसले से निर्माण मजदूरों को भारी समस्याओं के साथ-साथ मानसिक व आर्थिक नुकसान भी उठाना पडे़गा।

उनका कहना था कि वर्तमान भाजपा सरकार का लोकतंत्र में विश्वास नही हैं। भाजपा सरकार की नीतियों के कारण आज जनता का हर वर्ग दुखी हैं। जिसका उद्वाहरण पांच राज्यों के चुनाव में सभी जगह भाजपा की हार को दर्शता हैं। मगर भाजपा सरकार उपरोक्त हार से सबक न लेकर आए दिन जनता को परेशान करने वाली नीतियां अपना रही है। जिसका रोष 8-9 जनवरी को होने वाली आम हड़ताल में देखने को मिलेगा।

सम्मेलन में 27 सदस्यीय कमेटी का चुनाव किया गया। जिसमें संजीव सिह को प्रधान, शैलेन्द्र, रामगोाल रिठाल व सुरेश यादव को उप-प्रधान, नरेश शिमली को सचिव, किशोर, नीरज व रविन्द्र किलोई को सह-सचिव समेत कृष्ण, रेखा, सुदेश, मंगल, सुरेश शामड़, विजय, मदन, सोनू, जोगेन्द्र व श्रवण को कमेटी सदस्य चुना गया।

मांगों को लेकर आशा वर्कर्स यूनियन के आह्वान पर रोहतक जिले की आशा वर्कर 8-9 की राष्ट्रव्यापी हड़ताल में लेगी बढ़-चढ़ कर भाग : का. विनोद

हर्षित सैनी /  आशा वर्करों को पक्का कर्मचारी बनवाने, 18000 न्यूनतम वेतन लागू करने, बढी हुई प्रोत्साहन राशियों का ऐरियर तुरंत खातों में डलवाने, प्रधानमंत्री द्वारा की गई घोषणा को तुरंत लागू करवाने, 21 जुलाई के नोटिफिकेशन के निर्णयों को तुरंत लागू करवाने की मांगों को लेकर आशा वर्कर्स यूनियन (सीटू) के आह्वान पर रोहतक जिले की आशा वर्कर 8-9 जनवरी की राष्ट्रव्यापी हड़ताल में जोरदार हिस्सेदारी करेगी।

सांपला के नगर पालिका पार्क में सांपला सीएचसी की आशाओं की मीटिंग सीएचसी प्रधान पूनम की अध्यक्षता में हुई मीटिंग को सम्बोधित करते हुए सीटू जिला सह-सचिव कामरेड विनोद ने कहा कि देश की सत्ता पर बैठी भाजपा सरकार बड़े-बड़े पूंजीपतियों के हितों में काम कर रही है।

उन्होंने कहा कि मजदूरों किसानों व आम जनता पर लगातार हमले बढ़ रहे हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियों को लाभ पहुंचाने के लिए श्रम कानून में बदलाव किए जा रहे हैं। महंगी शिक्षा महंगे इलाज और बढ़ती महंगाई से आम जनता की हालत बदतर हो चुकी है।

का. विनोद ने कहा कि सरकार की जनता विरोधी नीतियों के खिलाफ वह मजदूर वर्ग की मांगों को लेकर पूरे देश में मजदूरों व कर्मचारी संगठनों के साथ मिलकर सभी कर्मचारियों को पक्का करवाने, तब तक 18000 रुपए वेतन दिए जाने सभी को 5000 रुपए प्रतिमाह पेंशन देने श्रम कानूनों को मालिक परस्त बदलाव रद्द करने, महंगाई पर रोक लगाने, सबको सस्ता राशन, स्वास्थ्य, शिक्षा और आवास उपलब्ध करवाने आऊट सोर्स और ठेका प्रथा बंद करें।

इसके अलावा पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करने, समान काम समान वेतन लागू करने, सभी खाली पदों पर भर्ती करने, रोडवेज, बिजली, शिक्षा, चिकित्सा व जन स्वास्थ्य आदि सेवाओं सहित सरकारी विभागों का निजीकरण बंद करें। साथ ही आशा आंगनवाड़ी मिड डे मील सहित सभी स्कीम वर्करों को सरकारी कर्मचारी का दर्जा देने, बैंकिंग, बीमा, रेलवे, रक्षा व कोयला आदि में एफडीआई पर रोक लगाने की मांग की है।

उन्होंने बताया कि 45 दिन में यूनियन रजिस्ट्रेशन की गारंटी करने, मनरेगा में साल भर काम व 600 रुपए दिहाड़ी करने, किसानों को फसलों के लाभकारी मूल्य देने, किसान मजदूरों का कर्जा माफ करने, सभी मजदूरों कर्मचारियों को ई.एस.आई., पी.एफ. व पैंशन की सुविधा देने, कर्मचारी आंदोलन का दमन बंद कर झूठे मुकद्दमें वापस लेने आदि मांगों को लेकर पूरे देश में हड़ताल की जाएगी।

मीटिंग को यूनियन जिला उपप्रधान ममता ने कहा कि हरियाणा सरकार व केन्द्र सरकार आशा वर्करों को कर्मचारी न मानकर उनसे बेगारी करवाना चाहती है। स्वास्थ्य विभाग की ज्यादातर सेवाआों को जनता तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाने वाली आशाओं को मानदेय व प्रोत्साहन राशियों का भूगतान न करके उनका उत्पीड़न किया जा रहा हैं।

उन्होंने बताया कि 8 व 9 जनवरी को होने वाली राष्ट्रव्यापी हड़ताल में शामिल होकर यूनियन सरकार को करारा जवाब देगी। मीटिंग में रानी, बीना, अनीता, रेनू बाला, राजबाला व भतेरी ने भी सम्बोधित किया।