Bikaner Rajasthan Slider

बड़ों को सम्मान, छोटों पर दया भाव रखें

श्री खेतेश्वरजी महाराज मन्दिर दो दिवसीय प्रतिष्ठा समारोह

बीकानेर।(ओम दैया) दर्जी दो चीजों से अपना कार्य करता है।कैची जिससे वह कपड़े काटता है सूई जिससे वह कपड़े सिलता है। कैची को वह अपने घुटनों के निचे दबाए रखता है और सूई को सम्मान के स्थान पर सुरक्षित रखता है। ठीक उसी तरह सन्त समाज भी हमेशा समाज को संगठित करने को गुरु परम्परा से चलाए गए कार्यों को आगे बढ़ाते हैं। यह उद्गार बुधवार को श्री खेतेश्वरजी राजपुरोहित परमार्थ प्रन्यास द्वारा मंदिर प्रतिष्ठा के दूसरे दिन खेतेश्वर नगर में अपने प्रवचन के दौरान श्री वेदांताचार्य डॉ ध्यानाराम जी ने कहे, उन्होंने कहा जो व्यक्ति समाज को तोडऩे का कार्य करता है वो हमेशा दुखी रहता है।

जो व्यक्ति समाज जोडऩे का कार्य करते हैं वे हमेशा हर हाल में प्रसन्न रहते हैं। समाज में तीन प्रकार के लोग होते हैं उनमें बड़ों का सम्मान बराबरी के लोगों के साथ मित्रता और छोटों के साथ दया भाव रखने चाहिए। श्री तुलसाराम जी महाराज विश्वशान्ति की कामना की और भक्तों को आशीर्वाद दिया। दो दिवसीय कार्यक्रम में साधु-सन्तों का प्रवचन, महाप्रसादी तथा महाआरती आदि आयोजन से यहाँ का माहौल मेले सा रहा। प्रन्यास द्वारा साधु संतों और अतिथियों का बहुमान किया गया।

विश्व शांति यज्ञ के साथ गुरुदेव खेतेश्वर महाराज के मंदिर में दर्शन का लाभ दर्शनार्थियों ने लिया। बड़ी संख्या में महिलाओं और बच्चों ने धार्मिक अनुष्ठान में भाग लिया। भारत स्काउट गाइड के विद्यार्थियों ने भी अपनी सेवाएं दी। प्रन्यास के महामंत्री नरेन्द्र सिंह आडसर ने बताया प्रन्यास द्वारा चलाए जा रहे कार्यों को लेकर चढ़ावे की एक साल की बोलियां हुई जिसका लाभ समाज के लाभार्थियों ने लिया। इस अवसर पर अध्यक्ष मनफूल सिंह आडसर, कुन्दन सिंह खेड़ी, हनुमान सिंह रासीसर, सीताराम सिंह देसलसर, श्याम सिंह, बाबूसिंह, शिव सिंह, युवा मंडल से दिलीप सिंह, मनोज सिंह, करणी सिंह, आईदान सिंह, हुलास सिंह, रानू सिंह तथा प्रेम सिंह सहित अनेक गणमान्य मौजूद थे।

gyan vidhi PG college