Article Bikaner Rajasthan Slider

बंधुवा मजदूर और गुलामी की जंजीर से मुक्त करवाया इस महान सपूत ने

आज हमारे भारत के उस महान सपूत का जन्मदिन है जिसने भारत देश में फैल रही सामाजिक असमानता को मिटाने के लिए अपना पूरा जीवन अर्पित कर दिया जिस समय महानायक डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने जन्म लिया उस वक्त भारत में गोर असमानता का युग था एसे तो भारत देश के अंदर वेदों के अनुसार कर्म के आधार पर जातियों का बनने की परंपरा थी

लेकिन सत्ता में बैठे उन प्रभावशाली निर्धारित करने वाले कर्ताओं ने अपने स्वार्थ के कारण जातियों का निर्माण जन्म से ही प्रारंभ कर दिया जो आगे चलकर जातियों में असमानता ऐसा दौर लाया जो भारतीय इतिहास को कलंकित किए हुए हैं अपने को श्रेष्ठ बताने वाली जातियों ने भारत की परंपरागत बहुसंख्यक समाज को शूद्र कहकर उनको संबोधित किया तथा उनके लिए घृणित कार्य करने के लिए उन्हें बाध्य किया गया उनके लिए रहने की जगह गांव के बाहर निर्धारित की गई उन्हें जानवर से भी खराब जिंदगी जीने के लिए मजबूर किया गया उसे गुलामी करवाए जाने लगी बंधुआ मजदूर बना के रखा गया उन्हें शिक्षा से दूर रखा गया उन्हें जानवरों के गोबर में से अनाज खाने को मजबूर किया गया वह धर्मो उपदेश नहीं सुन सकते मनुस्मृति बाल्मीकि रामायण शंबूक वध महाभारत में एकलव्य तथा शुद्र पुत्र कर्ण जैसे पात्रों के साथ अन्याय किया गया था

shyam_jewellers

उन्हें अछूत कहकर यातनाएं दी जाने लगी ऐसे समय में 14 ्रश्चह्म्द्बद्य 1891 को पिता रामजी मालो जी सतपाल मां भीमा भाई जाति महार के घर मध्य प्रदेश इंदौर के पास महू गांव में 14 वी संतान के रूप में अवतरण हुआ जिस वक्त बालक भीमराव का जन्म हुआ उस वक्त उनके पिता इंडियन आर्मी ईस्ट इंडिया कंपनी में सूबेदार के पद पर कार्य करते थे 1894 में अपने पिता की सेवा मुक्ति के बाद भीमराव अपने पिता के साथ है महाराष्ट्र के सतारा में रहने लगे भीम राव जी का मूल गांव का नाम अंबावडे था 7 नवंबर उन्नीस सौ को उन्होंने काफी संघर्ष के बाद सतारा शहर की गवर्नमेंट हाई स्कूल मैं प्रवेश लिया जहां के शिक्षक कृष्णा कुकर महादेव ने उनका उपनाम अंबा वाले की जगह अंबेडकर कर दिया वह अब भीमराव अंबेडकर के नाम से उन्हें पहचान मिली अंबेडकर प्रतिभा संपन्न थे पढऩे में उनकी बहुत रुचि थी डॉ भीमराव अंबेडकर 15 वर्ष की आयु में 9 वर्ष की रमाबाई से शादी करवा दी गई थी

उन्नीस सौ आठ में अंग्रेजी मित्र द्गद्यश्चद्धद्बह्यह्लशठ्ठ के कहने पर उन्हें मुंबई मुंबई विश्वविद्यालय से संबंधित कॉलेज में प्रवेश मिला जहां पर कृष्ण जी अर्जुन केलकर ने स्वयं द्वारा लिखित महात्मा बुद्ध की एक किताब भेट की अंबेडकर जी की प्रतिभाओं को देख कर बड़ौदा के नरेश सदाजी राव गायकवाड ने तोलमोल करने के बाद की विदेशी पढ़ाई करके आने के बाद वह महाराजा के पास ही नौकरी करेंगे उन्हें पढ़ाई के लिए अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में भेज दिया बाद में उन्होंने लंदन से भी शिक्षा प्राप्त की राजनीति शास्त्र अर्थशास्त्र पारसी भूगोल और कहीं विषय में घोर अध्ययन किया तथा एचडी प्राप्त की जिस समय अंबेडकर भारत में शिक्षा प्राप्त कर रहे थे

arham-english-academy

उस वक्त शूद्र जाति के लोग संस्कृत में शिक्षा प्राप्त नहीं कर सकते थे इसलिए उन्होंने संस्कृत की जगह फारसी भाषा मैं अध्ययन किया उन्होंने जातियों में असमानता को दूर करने के लिए कहीं आंदोलन किए तथा मंदिरों में शूद्रों को प्रवेश दिलाने के लिए उन्हें संघर्ष किया उन्होंने तालाबों में पानी पीने के लिए आंदोलन किए भीमराव अंबेडकर को भारतीय संविधान सभा में भारतीय संविधान का प्रारूप तैयार करने के लिए प्रारूप समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया उन्होंने कहीं देशों के संविधान का अध्ययन करने के बाद में भारतीय संविधान सभा में 26 नवंबर 1949 को डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद को सविधान का मसौदा प्रस्तुत किया डॉक्टर भीमराव अंबेडकर मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया भीमराव अंबेडकर जी ने कहा है धर्म आदमी के लिए है आदमी धर्म के लिए नहीं उन्होंने जो मानवता को मानवता से दूर करें तथा रूढि़वादिता के नाम पर एक मनुष्य दूसरे मनुष्य के साथ असमानता और कुरता पूर्ण व्यवहार करें ऐसे किसी भी धर्म शास्त्र का विरोध किया

21 वर्षों तक विभिन्न धर्मों के अध्ययन करने के बाद में अंत में बौद्ध धर्म अपनाकर अपने आप को मानव धर्म के लिए अर्पित कर दिया आज राजनीतिक पार्टियां उनके नाम का उपयोग करके अपना वोट बैंक बनाना चाहती है लेकिन अंबेडकर जी की वास्तविक शिक्षा के बारे में कोई नहीं सोचना चाहता उन्होंने समाज में फैल रही बुराइयों तथा राजनीतिक में बढ़ रहे भ्रष्टाचार को रोकने के लिए उसी समय सिद्धांत निर्धारित किए थे लेकिन वास्तविकता यह है कि हम अंबेडकर जी को केवल वोट लेने की वजह से याद कर रहे हैं वास्तव मै शिक्षा व उनके द्वारा बताए गए सिद्धांतों से किसी राजनीतिक पार्टी का कोई लेना देना नहीं है आओ हम सब मिलकर ही एसे मानवतावादी द्वारा बताए गए सिद्धांतों को अपनाकरश्रेष्ठ भारत एक भारत का निर्माण करें महान सपूत अंबेडकर जी को कोटि-कोटि नमन सामाजिक कार्यकर्ता अनीस भारतीय।

cambridge convent school bikaner