Mark Zuckerberg
International

प्राइवेट डाटा सुरक्षित करने में असफल फेसबुक, 3 अरब 42 करोड़ रुपए का जुर्माना

OmExpress News / वॉशिंगटन / अमेरिका में सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। अमेरिकी अखबार वॉल स्‍ट्रीट जनरल की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक अमेरिकी नियामक की ओर से साइट पर यूजर्स की निजता और डाटा की सुरक्षा करने में असफल रहने पर पांच बिलियन डॉलर का जुर्माना तय किया गया है। अखबार की ओर से बताया गया है कि फेडरल ट्रेड कमीशन (एफटीसी)की तरफ से इुई वोटिंग में 3-2 से जुर्माने का फैसला किया गया। दो डेमोक्रेटिक सदस्‍य जो कंज्‍यूमर प्रोटेक्‍शन एजेंसी से जुड़े हैं, वे जुर्माने की बात से सहमत नहीं थे। न्‍यूज एजेंसी एएफपी की ओर से इस बात की जानकारी दी गई है। Facebook

साल 2011 के मामले में ‘सजा’

रिपोर्ट के मुताबिक निजता के उल्‍लंघन में यह अभी तक के जुर्माने की सबसे बड़ी राशि है जो फेसबुक पर तय की गई है। हालांकि अभी इसे अमेरिकी न्‍याय विभाग की मंजूरी मिलना बाकी है। फेसबुक की ओर से अभी तक इस पर कोई भी जानकारी नहीं दी गई है।

garden city bikaner

फेसबुक की ओर से इस वर्ष की शुरुआत में उम्‍मीद जताई गई थी कि उसे कानूनी लड़ाई में तीन से पांच बिलियन डॉलर तक का जुर्माना यूजर डाटा के उल्‍लंघन की वजह से अदा करना पड़ सकता है। एफटीसी की ओर से पिछले वर्ष इस बात का ऐलान किया गया था कि वह साल 2011 के एक प्राइवेसी सेटलमेंट मामले की जांच फिर से करने जा रही है। Facebook

मुश्किल में पड़ गए थे मार्क जुकरबर्ग

एफटीसी की ओर से यह घोषणा उस समय की गई थी जब पिछले वर्ष कैंब्रिज एनालिटिका का मामला सामने आया था। कैंब्रिज एनालिटिका जो राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के चुनावी कैंपेन से जुड़ी थी, उससे जुड़ा स्‍कैंडल सामने आया। इस स्‍कैंडल में खुलासा हुआ था कि साल 2016 में ट्रंप के चुनावी अभियान के दौरान लाखों यूजर्स के प्राइवेट डाटा के साथ छेड़छाड़ की गई थी। Facebook

फेसबुक को इसके बाद कई मुश्किल सवालों का सामना करना पड़ा था। फेसबुक के को-फांउडर मार्क जुकरबर्ग को तो अमेरिकी कांग्रेस के सामने गवाही तक देनी पड़ी थी। रनसे पूदा गया था कि बिजनेस पार्टनर्स के साथ क्‍या यूजर्स के प्राइवेट डाटा को एक करार के तहत शेयर किया गया था?